Top Story
बाबाओं का तंत्र जाल : हादसे के बाद जागने के पीछे क्या है शासन की ताल ? 03-Jul-2024
हाथरस में प्रवचन के दौरान हुए हादसे में 121 लोगों की मृत्यु और सैकड़ो लोगों के घायल होने के बाद शासन प्रशासन सक्रिय हुआ नारायण साकार हरि नामक भोले बाबा का दरबार पिछले कई वर्षों से चल रहा है बाबा अपने आप को भगवान कहता है प्रलय लाने के दावे करता है जमीन फाड़ने की बातें करता है, दुनिया के सब भगवानों को नकार कर सिर्फ उसे ही मानने की बातें करता है वीडियो बनाने पर प्रतिबंध लगाता है उसके बोरिंग के पानी की करामात की बात करता है, बोरिंग के पानी को अमृत बताता है चमत्कारिक बताता है और पानी पीने से सब दुखों का नाश होगा ऐसा लोगों में भ्रम जाल फैलता है | बरसों से यह सब कुछ चल रहा है और उत्तर प्रदेश शासन प्रशासन सब कुछ आंखें मूंदे देखा है उत्तर प्रदेश की इंटेलिजेंस सूचना तंत्र को यह पता ही नहीं चलता लाखों लोगों की भीड़ का एकत्रित होना और उनसे अरबो रुपए कम कर अनेक जगह आश्रम बनाना अपने लिए महल बनवाना महंगी गाड़ियों का काफिला अपनी खुद की सिक्योरिटी सर्विस वह भी तीन लेयर में रखना इतना सब कुछ शासन प्रशासन चाहे वह प्रदेश सरकार हो चेक केंद्र की सरकार हो आंखें मूंदे सब कुछ देखता रहे यह तो समस्या पार है| देश में प्रलय लाने की धमकी धरती को पढ़ने का चैलेंज सिर्फ उसे ही भगवान मां ने की बाध्यता यह सब देशद्रोह की श्रेणी में आता है और सरकार और सरकारी तंत्र को यह सब पता ही नहीं चलता तो किस काम की इंटेलिजेंस, गुप्त सूचना देने वाला विभाग ? इतने सारे प्रमाण मिलने के बाद भी शासन प्रशासन द्वारा इस फर्जी बाबा फर्जी भगवान पर फिर ना होना इस बात को साबित करता है कि इन सब के पीछे जनप्रतिनिधि अधिकारी के साथ-सा द आर्थिक संपन्नता आर्थिक लेनदेन हो सकता है | बैरल इतने बड़े हादसे के बाद भी अगर शासन प्रशासन पूरे देश के इस तरह के बाबो पर जो अपने आप को भगवान सिद्ध तांत्रिक मानते हैं उन पर प्रतिबंध नहीं लगाया गया तो ऐसे फर्जी ठग बाबो की संख्या में और वृद्धि होगी क्योंकि यह एक ऐसा व्यवसाय है जहां लागत कुछ नहीं और कमाई अरबों खरबों की |


RELATED NEWS
Leave a Comment.