Crime News
  • स्कूल बैग के अंदर टुकड़ों में बरामद हुआ, युवक की लाश… क्षेत्र में फैली सनसनी…. जाने क्या है पूरा मामला

    कोरबा : कोरबा के पाली थाना क्षेत्र में एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। गोपालपुर स्थित बांधपारा डैम के पास बोरे और बैग में एक युवक का शव टुकड़ों में पाया गया है। इस घटना के बाद क्षेत्र में दहशत का माहौल देखा जा रहा है। सूचना मिलने के बाद पुलिस की टीम मौके पर पहुंची और जांच में जुट गई। फिलहाल मृतक की पहचान करने का प्रयास किया जा रहा है, जिसके बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी ।

     
  • शादी कराने का झांसा देकर मल्टीनेशनल कंपनी के साॅफ्टवेयर इंजिनियर से करोडो रू की ठगी करने वाला शातिर ठग 48 घण्टे के भीतर ही पुलिस की गिरफ्त में
    बिलासपुर से मन्नू मानिकपुरी की रिपोर्ट
     
    ⏭️ डाॅ. संजीव शुक्ला (भा.पु.से.) पुलिस महानिरीक्षक बिलासपुर रेन्ज बिलासपुर के निर्देशन एवं * रजनेश सिंह (भा.पु.से.)* पुलिस अधीक्षक बिलासपुर के मार्गदर्शन में सायबर अपराध पर ’’प्रहार’’।
    ⏭️ रेंज सायबर थाना बिलासपुर व ए.सी.सी.यू. बिलासपुर की संयुक्त कार्यवाही बाद पुलिस को मिली महत्वपूर्ण सफलता।
    ⏭️ साॅफ्टवेयर इंजिनियर से परिचय बढाकर शादी का झांसा देकर बे्रन-वाॅश कर ठगी कर वसुले 01 करोड 39 लाख 51 हजार 277 रू।
    ⏭️ बैंक स्टेटमेंट एवं तकनीकी इन्पुट के आधार पर पुलिस पहुॅची शातिर अपराधी तक।
    ⏭️ पुलिस द्वारा करीब 35 से 40 बैंक खाते जांच बाद फ्रीज किये गये है।
     
    अपराध क्रमंाक 05/2024 धारा 420, 386, 34 भा.द.वि. एवं 66(डी) आई.टी एक्ट
     
    नाम गिरफ्तार आरोपी:-  रोहित जैन पिता रमेश चन्द्र जैन उम्र 33 वर्ष सा. कटरा बाजार जैन एजेन्सी वार्ड न. 15 मैहर थाना मैहर जिला मैहर (म.प्र.)।
     
    अपराध में शामिल प्रमुख तथ्य:-
    ➡️ आरोपी जो स्कूल के समय से ही मिमिक्री करता रहा है महिला, पुरूष साउथ इंडियन, फिल्मी कलाकारो के हुबहु नकल कर आवाज निकालने में माहिर है।
    ➡️ अपराध के उददेश्य से स्वयं ही महिला एकता जैन, महिला के मामा का लडका अंशुल जैन, जिला जज सुब्रमन्यन स्वामी हैदराबाद, प्रापर्टी टैक्स आॅफिसर रामकृष्ण चेन्नई, मोबाईल लोन एप रिकवरी एजेन्ट बाॅस, आर.बी.आई. इन्स्पैक्टर विनित बनकर, किरदार गढकर प्रार्थी को लिया झांसे में।
    ➡️ प्रत्येक किरदार निभाने के लिये किया उपयोग किया अलग-अलग कंपनी का सिम कार्ड।
    ➡️ आरोपी ठगी कर आॅनलाईन बैंटिंग एप डी-247 के एवीएटर, तीन पत्ती, रमी, क्रिकेट पर लगाता था दाव।
     
    विवरण -
    मामले का विवरण इस प्रकार है कि प्रार्थी नितिन जैन निवासी सरकण्डा बिलासपुर जो प्राईवेट कंपनी पुणे मे साॅफ्टवेयर इंजिनियर है ने सायबर थाना आकर स्वयं के साथ सायबर ठगी होने की रिपोर्ट दर्ज कराया कि इसके साथ 01 करोड 39 लाख 51 हजार 277 रू की ठगी हो गयी है प्रार्थी के लिखित आवेदन पत्र पर उपरोक्त अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया। 
     
    डाॅ. संजीव शुक्ला पुलिस महानिरीक्षक बिलासपुर रेन्ज बिलासपुर एवं  रजनीश सिंह (भा.पु.से.)* पुलिस अधीक्षक बिलासपुर द्वारा धोखाधडी व सायबर अपराधो की समीक्षा कर समस्त राजपत्रित अधिकारियो को विशेष निर्देश दिये गये थे इस निर्देश के पालन में एक विशेष टीम द्वारा आरोपीयो का पता ठिकाना ज्ञात कर विवेचना प्रारम्भ की गई जो आरोपी का आनलाईन ठगी का काम करने में संलिप्त होने की जानकारी प्राप्त हुई।
     
    मामले की जांच दौरान ज्ञात हुआ कि आरोपी रोहित अपने भाई के घर पुणे गया हुआ था जहाॅ उसकी मुलाकात जैन काॅलोनी में रहने वाले प्रार्थी नितिन जैन से हुई आपसी परिचय बढने के बाद रोहित को नितिन जैन के विवाह हेतु लडकी की तलाश होने की जानकारी मिली इसी का फायदा उठाकर आरोपी ने प्रार्थी से संपर्क कर उसे विवाह योग्य लडकी से परिचय कराने की बात कहीं प्रार्थी इसके बातो पर विश्वास कर लिया, तब आरोपी द्वारा प्रार्थी को 02-03 लडकियो की फोटो इन्टरनेट से निकालकर दिखाया जिसमें से प्रार्थी ने एक लडकी काल्पनिक नाम एकता जैन को पसंद किया तब आरोपी रोहित ने स्वयं के मोबाईल से प्रार्थी को आवाज बदलकर लडकी एकता जैन की आवाज मंे बात कर झांसे मेे लेना शुरू कर दिया, आरोपी ने लडकी की आवाज में कुछ दिन बात कर शादी के लिये राजी होकर ठगी करना प्रारम्भ कर दिया।
     
    आरोपी द्वारा अपराध करने निम्न काल्पनिक किरदार की रचना की:-
     
    काल्पनिक नाम एकता जैन - एकता जैन जिससे प्रार्थी विवाह करने की बात तय हुई थी आरोपी ने एकता के बीमार होने व अन्य आवश्यकता होने का झांसा देकर प्रार्थी से करीब 30 लाख रू विभिन्न बैंक अकाउंट में जमा करा लिया। 
     
    एकता जैन का भाई अंशुल जैन - आरोपी ने एक नया सिम कार्ड खरीदकर एकता जैन का भाई अंशुल जैन बनकर नये आवाज मंे प्रार्थी से संपर्क कर अपनी बहन से विवाह की पारिवारिक सहमति दी बातचीत दौरान प्रार्थी को शेयर मार्केट मेें हानि होने, प्राॅपर्टी टेैक्स पटाने, फैमली डिस्प्युट होने का हवाला देकर प्रार्थी से करीब 30 लाख रू विभिन्न बैंक अकाउंट में जमा करा लिया।
     
    हैदराबाद के इंकम टैक्स जज सुब्रमण्यम - आरोपी ने पुणे जाकर एक नई कहानी बनाई जिसमें लडकी एकता जैन के परिवार का हैदराबाद में प्रापर्टी होना बताया जिसकी बिक्री हेतु हैदराबाद जाना बताया यहाॅ नया सिम कार्ड खरीदकर प्रार्थी को हैदराबाद के इंकम टैक्स के जज सुब्रमण्यम की बदली हुई आवाज में मोबाईल पर संपर्क कर एकता के गिरफ्तार होने का झांसा देकर प्रार्थी से करीब 20 लाख रू विभिन्न बैंक अकाउंट में जमा करा लिया।
     
    चेन्नई का प्रापर्टी टैक्स अधिकारी रामकृषण्ण - आरोपी ने एकता जैन का चेन्नई में भी प्रापर्टी का टैक्स जमा न होने के कारण एकता की गिरफ्तारी की संभावना बताकर चेन्नई का प्रापर्टी टैक्स अधिकारी रामकृषण्ण की बदली हुई आवाज में तमिल, हिन्दी, अंग्रेजी में प्रार्थी से करीब 15 लाख रू विभिन्न बैंक अकाउंट में जमा करा लिया।
     
    आर.बी.आई. अधिकारी विनित - आरोपी ने इसी प्रकार आर.बी.आई. अधिकारी विनित की बदली हुई आवाज में इन्स्टेन्ट लोन एप के माध्यम से रकम अदायगी न कर पाने के कारण तुम जांच एजेंन्सीयो के सर्विलंेस मेें हो पुलिस व ई.डी. अधिकारी तुम्हारे घर पर रेड करने वाले है तुम दवाजा मत खोलना और स्वयं जाकर प्रार्थी के घर का दरवाजा खटखटाने लगा और प्रार्थी को भय हो गया कि पुलिस इसे कभी भी गिरफ्तार कर सकती है आरोपी स्वयं प्रार्थी के घर के निचे खडे होकर फोटो खिंचकर प्रार्थी को भेजता था कि तुम जांच एजेंन्सीयो के सर्विलंेस मेें हो। प्रार्थी डर में आकर से करीब 20 लाख रू विभिन्न बैंक अकाउंट में जमा करा लिया। 
     
    मामले में आरोपी रोहित जैन पिता रमेश चन्द्र जैन उम्र 33 वर्ष सा. कटरा बाजार जैन एजेन्सी वार्ड न. 15 मैहर थाना मैहर जिला मैहर (म.प्र.) को मैहर से हिरासत में लेकर पुछताछ किया गया घटना में प्रयुक्त 02 नग एण्ड्रायड फोन 02 नग कि-पैड फोन 11 नग सिम कार्ड जप्त किया गया है आरोपी का अपराध स्वीकार करने से आरोपी को गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय पेश किया जाता है।
     
    सम्पुर्ण कार्यवाही में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर बिलासपुर  उमेश कश्यप* , अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक ग्रामीण एवं ए.सी.सी.यू. बिलासपुर  अनुज कुमार,* नगर पुलिस अधीक्षक चकरभाठा  निमितेश ंिसह* के मार्गदर्शन में निरीक्षक राजेश मिश्रा प्रभारी ए.सी.सी.यू. एवं रेंज सायबर थाना बिलासपुर उप निरीक्षक अजय वारे, स.उ.नि. सुरेश पाठक, प्रधान आरक्षक सैय्यद साजिद, विक्कु सिंह ठाकुर आरक्षक चिरंजीव कमलेश, मुकेश वर्मा का विशेष योगदान रहा। 
  • शिक्षा विभाग एवं संस्था के खिलाफ नारे बाजी और गाली गलौज  : तीन कांग्रेसियों को जेल
    *कांग्रेस प्रवक्ता विकास तिवारी सहित अन्य दो कांग्रेसी गिरफ्तार* *शिक्षा विभाग एवं स्कूलों के खिलाफ खोला था मोर्चा* दिनांक 08.06.2024 को करीबन 12.00 बजे कृष्णा किड्स एकेडमी के संस्था में आरोपी कुणाल दुबे आकर फोन पर किसी से चर्चा करने पर थोडी देर में एनएसयूआई कार्यकर्ता विकास तिवारी, तथा परिसर में मौजूद कुणाल दुबे, हेमंत पाल एवं अन्य लोगो के द्वारा संस्था कृष्णा किड्स एकेडमी के अंदर जबरदस्ती प्रवेश कर शिक्षा विभाग एवं संस्था के खिलाफ नारे बाजी कर वहां के सभी महिला एवं पुलिस स्टाफ के साथ गाली गलौज करने पर थाना न्यू राजेन्द्र नगर में अप.क्र. 264/2024 धारा 452,294,34 भादवि अपराध पंजीबद्ध किया गया। विवेचना दौरान साक्ष्य सबुत पाये जाने से आरोपीगणों का पिछले 02 दिनों से लगातार पता तलाश किया जा रहा था जो आरोपीगणों को आज दिनांक 09.07.2024 को थाना लाकर पूछताछ करने पर दिनांक घटना समय को अपराध कारित करना स्वीकार करने पर आरोपी (1) कुणाल दुबे पिता स्व0 प्रदीप दुबे उम्र 25 वर्ष निवासी- म0 नं0 बी- 15 मारूती रेसीडेंसी, थाना न्यू राजेन्द्र नगर रायपुर (2) हेमंत पाल पिता शंकर पाल उम्र 30 वर्ष निवासी- दिग्जाम शो रूम के पीछे, संतोषी नगर के पास थाना टिकरापारा रायपुर (3) विकास तिवारी पिता विवेकानंद तिवारी उम्र 32 वर्ष निवासी- म0 नं0 38/58, सिमरा बाडा, डगनिया थाना डी0डी0 नगर रायपुर को गिरफतार कर न्यायिक रिमाण्ड पर भेजा गया है। 
    आरोपीः- 1. कुणाल दुबे पिता स्व0 प्रदीप दुबे उम्र 25 वर्ष निवासी- म0 नं0 बी- 15 मारूती रेसीडेंसी, थाना न्यू राजेन्द्र नगर रायपुर 2. हेमंत पाल पिता शंकर पाल उम्र 30 वर्ष निवासी- दिग्जाम शो रूम के पीछे, संतेषी नगर के पास थाना टिकरापारा रायपुर 3. विकास तिवारी पिता विवेकानंद तिवारी उम्र 32 वर्ष निवासी- म0 नं0 38/58, सिमरा बाडा,  डगनिया थाना डी0डी0 नगर रायपुर

  • महिला थाना प्रभारी रिश्वत लेते रंगे हाथों गिरफ्तार
    *जुर्म दर्ज करने के लिए मांगी रिश्वत* रायपुर महिला थाना प्रभारी रिश्वत लेते रंगे हाथो गिरफ्तार.... थाना प्रभारी वेदवती दरियो 20 हजार की रिश्वत लेते रंगे हाथो गिरफ्तार *ACB रायपुर की कार्यवाही* महिला थाने में FIR करने के लिए रिश्वत लेने वाली TI की गिरफ्तारी के साथ ही एसीबी को उनकी प्रॉपर्टी और बैंक खातों की भी जांच करना चाहिए - साथ ही महिला थाने में चल रहे रिश्वतखोरी के मामले में पूर्व थानेदारों के बारे में भी जांच पड़ताल होना चाहिए | - CG 24 News
  • बुजुर्ग माता-पिता से पुश्तैनी जमीन में हिस्सा माता-पिता के मृत्यु के बाद ही मिल सकता है- डॉ. किरणमयी नायक
    छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक ने आज कलेक्टोरेट सभाकक्ष में आयोग को प्राप्त महिला उत्पीडऩ से संबंधित प्रकरणों की सुनवाई की। इस दौरान कलेक्टर श्री संजय अग्रवाल उपस्थित थे। छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक द्वारा राजनांदगांव जिला की 256वीं सुनवाई हुई एवं जिला स्तर में 7वीं सुनवाई हुई। 
    सुनवाई के दौरान एक प्रकरण में आवेदिका अपने माता-पिता से संपत्ति का बंटवारा मांग रही थी, अनावेदक के पास उनके जीवन यापन के लिए एक डेढ़ एकड़ जमीन है और दोनों बेटे घर से अलग रहते हैं। आवेदिका के नाना ने अपनी एक एकड़ जमीन आवेदिका के माँ को दिया था। इस छोटी सी जमीन के अलावा अनावेदक और उसकी पत्नी के पास और कोई जमीन नहीं है और दोनों बुजुर्ग है। ऐसी दशा में उनके जीवन काल में पुश्तैनी संपत्ति का बंटवारा वह यदि अपने स्वेच्छा से अपने जीवनकाल में देना चाहे तभी आवेदिका को संपत्ति में हिस्सा मिल सकता है। अन्यथा उसे दिवानी न्यायालय में हिस्सा बंटवारा के लिए कानूनी कार्रवाही करनी होगी। इस निर्देश के साथ आयोग ने प्रकरण नस्तीबद्ध किया।
    एक अन्य प्रकरण में आवेदिका के मकान 1200 वर्गफीट का निर्माण करने हेतु एक लिखित अनुबंध दोनों पक्षों के बीच हुआ था। जिसमें आवेदिका के द्वारा लगभग 6 लाख रूपए अनावेदक को दिया गया है। जिसमें अनावेदक ने स्वीकार किया है, उसका कहना है कि आवेदिका 2300 वर्गफीट में निर्माण करा रहा है और खर्चा ज्यादा हो रहा है। इस मुद्दे पर निराकरण स्थल निरीक्षण किए जाने के बिना संभव नहीं है। दोनों पक्षों को समझाईश दिया गयाकि निरीक्षण कर मौके की जांच करेंगे। इस बाबत विद्या मिश्रा संरक्षण अधिकारी राजनांदगांव को नियुक्त किया गया है, वह किसी जूनियर इंजीनियर या अनुभवी को अपने साथ ले जाकर आयोग के निर्देश का पालन करने व अपनी रिपोर्ट एक माह में प्रस्तुत करें।
    एक अन्य प्रकरण में आवेदिका ने बताया कि अनावेदकगण के खिलाफ थाना बसंतपुर में शिकायत किया गया था। वहीं अनावदेकगणों द्वारा आवेदिका के पिता के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराया गया है, जिसके कारण आवेदिका ने यह शिकायत दर्ज करायी है। यह अनावेदकगण का कहना है। अर्थात् दोनों पक्ष में प्रकरण न्यायालय में विचाराधीन है। इसलिए आयोग ने सुनवाई किये जाने के पूर्व एसपी राजनांदगांव से पुलिस प्रतिवेदन मंगाना आवश्यक है, प्रतिवेदन के पश्चात प्रकरण नस्तीबद्ध किया जायेगा।
    एक अन्य प्रकरण में दोनों पक्षों द्वारा न्यायालय में मुकदमा दर्ज किया गया है। अनावेदक ने बताया कि उसके पूर्व पत्नी के दो बच्चे है तथा आवेदिका का अनावेदक से एक पुत्र है। अनावेदक ने बताया कि 70 हजार रूपए मासिक वेतन मिलता हंै और यह भी स्वीकार किया कि न्यायालय से 1500 रूपए का भरण पोषण दिए जाने का तय हुआ है। आवेदिका को केवल 1 माह का भरण पोषण मिला है। आवेदिका को समझाईश दिया गया कि वह अनावेदक के कार्यालय में जाकर एक आवेदन प्रस्तुत करे और अनावेदक के सर्विस रिकार्ड में अपने बच्चे का नाम दर्ज कराए तथा कुटुम्ब न्यायालय में आवेदन प्रस्तुत करें और अनावेदक के वेतन से लगभग 30 हजार रूपए मासिक भरण पोषण की पात्रता बनती है, वह सीधे उसे बैंक खाते में मिलने की मांग करें। इस समझाईश के साथ आयोग द्वारा प्रकरण नस्तीबद्ध किया गया। 
    एक अन्य प्रकरण में उच्च अधिकारी द्वारा बताया कि आवेदिका तथा अन्य श्रमिकों की अनावेदक की शिकायत थी, जांच में दोषी पाये जाने पर उसे निलंबित किया गया है। विभागीय जांच भी प्रकियाधीन है। ऐसी स्थिति आवेदिका भी प्रकरण समाप्त कराना चाहती है। आयोग द्वारा प्रकरण नस्तीबद्ध किया गया। एक अन्य प्रकरण में आवेदिका ने बताया कि समाजिक बहिष्कार की शिकायत की आड़ में आवेदिका को आंगनबाड़ी के प्रभार से बदला गया है। आवेदिका न्यायालय में जाना चाहती है। आयोग द्वारा प्रकरण नस्तीबद्ध किया गया।
    एक अन्य प्रकरण में आवेदिका के पति और अनावेदकगण के मध्य पूर्व में कई वाद-विवाद है, जिसमें अपराधिक होने के कारण आवेदिका द्वारा आयोग में शिकायत दर्ज करायी गयी है। अनावेदक की ओर से 2 पुलिस में 1 रेलवे में शासकीय नौकरी में है और प्रकरण आपसी रंजिस का प्रतीत होता है। आवेदिका द्वारा पुलिस से लगातार शिकायत दर्ज कराने के बाद भी शिकायत दर्ज नहीं किया गया। जिसके कारण उसे समझाईश दी गयी कि न्यायालय में परिवाद पत्र दाखिल कराये। इस निर्देश के साथ आयोग ने प्रकरण नस्तीबद्ध किया।
    एक अन्य प्रकरण में अनावेदिका ने बताया कि अतिथि व्याख्याता के लिए मातृत्व अवकाश का प्रावधान नहीं है। इस कारण आवेदिका ने उच्च न्यायालय में प्रकरण भी प्रस्तुत किया था, वह भी अब तक निराकृत हो गया है। आयोग द्वारा प्रकरण नस्तीबद्ध किया गया। एक अन्य प्रकरण में आवेदिका ने बताया की उसके पिता की मृत्यु 40 वर्ष पहले हो चुकी है। आवेदिका ने बताया कि अनावेदक उसके सौतेले भाई हैं और सौतेले भाई ने उसके पिता की सारी संपत्ति हड़प लिए है। इस कारण आयोग में निर्देश दिए कि संपत्ति का बंटवारा न्यायालय द्वारा किया जायेगा। आयोग द्वारा प्रकरण नस्तीबद्ध किया गया। एक अन्य प्रकरण में अनावेदक जानबूझकर अनुपस्थित है। आयोग द्वारा एसपी राजनांदगांव को कड़ा पत्र भेजा जाए कि थाना प्रभारी सीटी कोतवाली को कारण बताओ नोटिस जारी करें तथा अनावेदक को आगामी सुनवाई में उपस्थित रखें। थाना प्रभारी के खिलाफ शो कॉज नोटिस भेजा जाये कि अनावेदक को आगामी सुनवाई में आवश्यक रूप से उपस्थित रखे। इस अवसर पर कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास श्रीमती गुरप्रीत कौर सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
  • 83 पौवा देशी मसाला शराब के साथ अवैध रूप से शराब बिक्री करते आरोपी अशोक बेहरा उर्फ फुल्ली गिरफ्तार*।
    रायपुर दिनांक 04.07 2024  *अवैध रूप से शराब बिक्री करते आरोपी अशोक बेहरा उर्फ फुल्ली गिरफ्तार*।  *आरोपी के कब्जे से 83 पौवा देशी मसाला शराब जुमला कीमती 9130 रूपये एवं बिक्री रकम 5490 रूपये किया गया है जप्त*।  *थाना सिविल लाईन पुलिस टीम द्वारा की गई कार्यवाही*।  *आरोपी के विरूद्ध थाना सिविल लाईन में अपराध* *क्रमांक 380/24 धारा 34(2) आबकारी एक्ट* *के तहत की गई है कार्यवाही*। रायपुर पुलिस द्वारा *निजात अभियान* के तहत् नशे के विरूध्द विशेष अभियान चलाया जा रहा है, जिसमें समस्त थाना एवं एण्टी क्राईम एण्ड एन्टी सायबर यूनिट की टीम द्वारा लगातार कार्यवाही की जा रही है, साथ ही नशे की सामाग्री बिक्री करने वालों एवं सप्लाई करने वालों पर कठोर कार्यवाही करने निर्देशित किया गया है। दिनांक 03.07.2024 को सूचना प्राप्त हुआ कि थाना सिविल लाईन क्षेत्रांतर्गत तरूण नगर में हबीब किराना स्टोर्स के पास एक व्यक्ति अपने पास अवैध मसाला देशी शराब रखा हैै तथा बिक्री कर रहा है। जिस पर वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन में थाना सिविल लाईन की पुलिस टीम द्वारा उक्त स्थान पर जाकर मुखबीर द्वारा बताये हुए हुलिये के व्यक्ति को चिन्हांकित पकड़ा गया। व्यक्ति ने पूछताछ में अपना नाम अशोक बेहरा उर्फ फुल्ली पिता स्व. मंगल बेहरा उम्र 42 साल पता हबीब किराना स्टोर्स के पास तरूण नगर पंडरी थाना सिविल लाईन रायपुर का होना बताया। टीम के सदस्यों द्वारा उसके पास रखे प्लास्टिक के केन की तलाशी लेने पर केन के अंदर 83 पौवा मसाला देशी शराब रखा होना पाया। शराब रखने के संबंध में अशोक बेहरा उर्फ फुल्ली से वैध दस्तावेज की मांग करने पर उसके द्वारा किसी भी प्रकार की कोई दस्तावेज प्रस्तुत न कर टीम को लगातार गुमराह करने का प्रयास किया जा रहा था। जिस पर आरोपी अशोक बेहरा उर्फ फुल्ली को गिरफ्तार कर उसके कब्जे से अवैध रूप से रखे 83 पौवा मसाला देशी शराब जुमला कीमती 9130 रूपये एवं बिक्री रकम 5490 रूपये जप्त कर आरोपी के विरूद्ध थाना सिविल लाईन में अपराध क्रमांक 380/24 धारा 34(2) आबकारी एक्ट के तहत अपराध पंजीबद्ध कर कार्यवाही किया गया है। *गिरफ्तार आरोपी*- *अशोक बेहरा उर्फ फुल्ली पिता स्व. मंगल बेहरा उम्र 42 साल पता हबीब किराना स्टोर्स के पास तरूण नगर पंडरी थाना सिविल लाईन रायपुर*।
  • महादेव रेड्डी अन्ना-15 पैनल के माध्यम से क्रिकेट सट्टा संचालित करते 01 अंतर्राज्यीय सहित कुल 05 आरोपी पुणे महाराष्ट्र से गिरफ्तार
    प्रार्थी दशरथ निषाद ने थाना मौदहापारा में रिपोर्ट दर्ज कराया कि वह फुल चौक, मौदहापारा रायपुर में रहता है तथा गैलेक्सी इन्टरनेशनल इन्टरप्राईजेस प्रा.लि. में कार्य करता है। प्रार्थी का साथी बढ़ईपारा निवासी मोहित विश्वकर्मा प्रार्थी के पास आकर कहा कि उसे एक बैंक खाते की आवश्यकता है क्या तुम मुझे बैंक खाता खुलवा कर दे सकते हो क्या। जिस पर प्रार्थी द्वारा अपने साथी को बैंक ऑफ महाराष्ट्र में अपना बैंक खाता खुलवा कर दिया गया तथा मोहित विश्वकर्मा ने उक्त बैंक खाता में प्रार्थी के आधार कार्ड से 01 नग एयरटेल का सिम खरीद कर उक्त बैंक खाते में रजिस्टर्ड कराकर उक्त बैंक खाते का पासबुक, चेकबुक एवं ए.टी.एम. कार्ड अपने पास रख लिया। दिनांक 30.04.2024 को मोहित विश्वकर्मा प्रार्थी को फोन कर बोला कि उक्त बैंक खाता फंस गया है उसे बंद कराना है। जिस पर प्रार्थी को शंका होने पर जानकारी प्राप्त की तो उसे ज्ञात हुआ कि मोहित विश्वकर्मा द्वारा अपने अन्य साथियों के साथ मिलकर उसे झांसे में लेकर उसके साथ धोखाधड़ी कर उसके बैंक खाता एवं मोबाईल नम्बर का प्रयोग महादेव सट्टा संचालन में लेन-देन हेतु किया जा रहा था। जिस पर प्रार्थी की रिपोर्ट पर थाना मौदहापारा में अपराध क्र 193/24 धारा 318(4), 61(2) बी.एन.एस तथा छ.ग. जुआ प्रतिषेध अधिनियम 2022 की धारा 07 का अपरांध पंजीबद्ध किया गया। 
     
    उक्त घटना को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक महोदय श्री संतोष सिंह द्वारा गंभीरता से लेते हुए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर श्री लखन पटले, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक क्राईम श्री संदीप मित्तल, उप पुलिस अधीक्षक क्राईम श्री संजय सिंह एवं नगर पुलिस अधीक्षक कोतवाली श्री योगेश साहू द्वारा प्रभारी एण्टी क्राईम एण्ड साईबर यूनिट तथा थाना प्रभारी मौदहापारा को आरोपियों की पतासाजी कर जल्द से जल्द गिरफ्तार करन हेतु निर्देशित किया गया। जिस पर वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन में एण्टी क्राईम एण्ड साईबर यूनिट तथा थाना मौदहापारा पुलिस की संयुक्त टीम द्वारा घटना के संबंध में प्रार्थी से विस्तृत पूछताछ करते हुए प्रकरण में संलिप्त आरोपियों की पतासाजी करना प्रारंभ किया गया। इसी दौरान प्रकरण में लगी टीम के सदस्यों को आरोपियों के पुणे महाराष्ट्र में बैठकर पैनल के माध्यम से ऑनलाईन महादेव सट्टा का संचालन करने की जानकारी प्राप्त हुई। 
     
    जिस पर ऑर्गनाईजेशनल इनपुट से प्राप्त जानकारी अनुसार वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन में पूर्व से महाराष्ट्र में उपस्थित एण्टी क्राईम एण्ड साईबर यूनिट की टीम को पुणे महाराष्ट्र में उपस्थित सटोरियों पर आवश्यक कार्यवाही करने निर्देशित किया गया। जिस पर टीम के सदस्यों द्वारा सटोरियों की पतासाजी करते हुए सटोरियों को पुणे महाराष्ट्र स्थित सांगरिया फेस-03 मेगा पोलिस हिंजेवाडी के एक फ्लैट में लोकेट किया गया। टीम के सदस्यो द्वारा उक्त फ्लैट में रेड कार्यवाही किया गया। रेड कार्यवाही के दौरान फ्लैट में 05 व्यक्ति उपस्थित थे, जो लैपटॉप व मोबाईल फोन के माध्यम से सेटअप तैयार कर ऑनलाईन सट्टा संचालित कर रहे थे।  
     
    सटोरियों से कड़ाई से पूछताछ करने पर उनके द्वारा क्रिकेट मैच के दौरान महादेव सट्टा एप के रेड्डी अन्ना पैनल नं. 15 आई.डी. पैनल के माध्यम से ऑन लाईन सट्टा का संचालन करना स्वीकार किया गया।
     
    जिस पर सभी 05 सटोरियों को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से 47 नग मोबाईल फोन, 06 नग लैपटॉप, 01 नग टैबलेट, 02 राउटर, 02 नग लैपटॉप चार्जर, 03 नग रजिस्टर, 20 नग पासबुक, 35 नग चेकबुक, 07 नग ऑनलाईन बैंकिंग किट तथा 56 नग ए.टी.एम. कार्ड जुमला कीमती लगभग 12,50,000/- रूपये जप्त कर आरोपियों के विरूद्ध कार्यवाही किया गया। 
     
    प्रकरण में संलिप्त अन्य आरोपी फरार है जिनकी पतासाजी गिरफ्तार करने के हर संभव प्रयास किये जा रहे है। 
     
    गिरफ्तार आरोपी
     
    01. अतुल भगवान पराते पिता भगवान मारूति पाटिल उम्र 25 साल निवासी ईतवारी रेलवे स्टेशन के पास झाड़े चौक थाना लालगंज जिला नागपुर (महाराष्ट्र)।
      
    02. विक्रांत रंगारे पिता रोहित कुमार रंगारे उम्र 29 साल निवासी मकान नंबर 15-डी, सड़क नंबर - 32, सेक्टर - 04 भिलाई जिला दुर्ग।
      
    03. अंशुल रेड्डी पिता एसीबी रेड्डी उम्र 28 साल निवासी मकान नंबर 08 -सी, सड़क नंबर - 44, सेक्टर - 10 भिलाई जिला दुर्ग।
      
    04. देवेन्द्र कुमार विशाल उर्फ टिंकू पिता दीवाकर विशाल उम्र 30 साल निवासी मकान नंबर -12 बी, सड़क नंबर - 09, सेक्टर - 04 भिलाई जिला दुर्ग।
      
    05. कुशल ठाकुर पिता विजय ठाकुर उम्र 26 साल निवासी मकान नंबर-15, सड़क नंबर - 06,सेक्टर - 05 भिलाई जिला दुर्ग।
      
    कार्यवाही में निरीक्षक यामन कुमार देवांगन थाना प्रभारी मौदहापारा, एण्टी क्राईम एण्ड साईबर यूनिट से प्रभारी परेश पाण्डेय, उपनिरी. मुकेश सोरी, सउनि प्रेमराज बारिक, किशोर सेठ, प्र.आर. महेन्द्र राजपूत, कृपासिंधु पटेल, वीरेन्द्र भार्गव, प्रेमराज बारिक, आर. सुरेश देशमुख, केशव सिन्हा, अविनाश देवांगन, मुनीर रजा, तुकेश निषाद, अभिषेक सिंह तोमर, नितेश राजपूत की महत्वपूर्ण भूमिंका रहीं।
  • अवैध रूप से शराब परिवहन करते आरोपी राजू चेलक गिरफ्तार
    वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक  संतोष सिंह के दिशा निर्देश पर रायपुर पुलिस द्वारा निजात अभियान के तहत नशे के विरूद्ध विशेष अभियान चलाया जा रहा है, जिसमें समस्त थाना एवं एण्टी क्राईम एण्ड साईबर यूनिट की टीम द्वारा लगातार कार्यवाही की जा रहीं है। नशे पर प्रभावी कार्यवाही करने हेतु प्रभारी एण्टी क्राईम एण्ड साईबर यूनिट साहित समस्त थाना प्रभारियों को नशे की सामाग्री बिक्री करने वालों एवं सप्लाई करने वालों पर कठोर कार्यवाही करने के साथ ही अवैध रूप से शराब की खरीदी-बिक्री करने वालों पर कार्यवाही करने निर्देशित किया गया है।
     
    इसी क्रम में दिनांक 03.07.2024 को वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन व थाना प्रभारी मंदिर हसौद के नेतृत्व में थाना मंदिर हसौद पुलिस की टीम द्वारा मंदिर हसौद स्थित जिंदल मोड़ पास दोपहिया वाहन में अवैध रूप से शराब परिवहन करते आरोपी राजू चेलक पिता कुन्जू चेलक उम्र 28 साल निवासी बड़े मुनगी थाना मंदिर हसौद जिला रायपुर को गिरफ्तार कर उसके कब्जे से 34 पौवा देशी शराब तथा शराब परिवहन में प्रयुक्त डीलक्स मोटर सायकल क्रमांक सी जी/04/एम ए/6563 जुमला कीमती लगभग 40,000/- रूपये जप्त कर आरोपी के विरूद्ध थाना मंदिर हसौद में अपराध क्रमांक 498/24 धारा 34(2) आबकारी एक्ट का अपराध पंजीबद्ध कर कार्यवाही किया गया।
  • घर उजाड़ने वाली महिलाओं पर महिला आयोग सक्त, तीन महिलाओं को भेजा नारी निकेतन ।

    छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक, सदस्यगण श्रीमती नीता विश्वकर्मा व श्रीमती बालो बघेल ने आज छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग के कार्यालय रायपुर में महिला उत्पीड़न से संबंधित प्रकरणों पर सुनवाई की। आयोग की अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक की अध्यक्षता में आज 254 वीं सुनवाई हुई। रायपुर जिले में कुल 126 वीं जनसुनवाई।

    महिलाएं शादी-शुदा पुरूष के साथ रहने से पहले हजार बार सोचे और उसकी पहली पत्नि को घर से निकलवाकर दूसरी पत्नी बनने का प्रयास ना करें और बसा-बसाया घर उजाडने का प्रयास ना करें। ऐसी महिलाओं को महिला आयोग सुधारने की दिशा में सक्त प्रयास करती है- डॉ. किरणमयी नायक

    आज की सुनवाई के दौरान एक प्रकरण में आवेदिका ने बताया कि उसका पति किसी अन्य महिला के साथ 1 साल से भाग गया था। अनावेदक पहली पत्नी के जीवित रहते बिना तलाक के दूसरी महिला से विवाह किया जो कि पूर्णतः शून्य है। आयोग की अध्यक्ष द्वारा आवेदिका को यह सलाह दिया कि यदि वह चाहे तो दस्तावेज के आधार पर अनावेदक के खिलाफ धारा 494 IPC के तहत रिपोर्ट दर्ज करा सकेगी और दूसरी महिला सुधरने का मौका देकर सुरक्षा की दृष्टि से 2 माह के लिए नारी निकेतन रायपुर भेजे जाने का आदेश आयोग द्वारा दिया गया।

    इसी तरह एक अन्य प्रकरण में आवेदिका ने अपने पति के दूसरी महिला के साथ अवैध संबंध से परेशान होकर आयोग में शिकायत दर्ज करायी। दूसरी महिला की वजह से आवेदिका का पति उसके साथ मारपीट करता है। दूसरी महिला का पति भी आयोग में उपस्थित हुआ वह भी अपनी पत्नी से परेशान है और यह चाहता है कि उसकी पत्नी अपनी गलती समझ कर उसके साथ ठीक से रहे। दूसरी महिला को सुधरने का मौका नारी निकेतन भेजा गया।

    इसी दौरान एक प्रकरण में आवेदिका ने बताया कि आवेदिका और उसके पति के दो बच्चे 14 वर्ष और 18 वर्ष के है। वहीं दूसरी महिला एवं उसके पति के भी 14 वर्ष व 11 वर्ष के 2 बच्चे है। आवेदिका ने बताया कि आवेदिका के पति और दूसरी महिला के मध्य अवैध संबंध है। इस बात को दूसरी महिला का पति जानता है और वह चाहता है कि उसकी पत्नी को उचित समझाइश देकर सुधरने का मौका दिया जाये। आवेदिका भी अपने पति के साथ अपना रिश्ता सुधारना चाहती है इस पर आवेदिका के पति ने भी सहमति व्यक्त की। आवेदिका का पति हर माह 30 से 35 हजार रू. कमाता है। आयोग द्वारा आवेदिका के पति की आदेशित किया गया कि वह 10 जुलाई को आकर आवेदिका को 15000/- रू. देगा व अगले 6 माह तक आयोग में आकर आवेदिका को पैसे देगा और अपने संबंध सुधारने का प्रयास करेगा। दूसरी महिला को सुधरने का मौका देकर नारी निकेतन भेजा गया।

    एक अन्य प्रकरण में आवेदिका ने बताया कि उसके 3 वर्ष के बच्चे को उसका पति अपने साथ ले गया था, और उसने आवेदिका को बिना तलाक लिये दूसरा विवाह कर लिया है जो कि गैर कानूनी है। आज आयोग के समक्ष आवेदिका को उसका 3 वर्ष का बच्चा दिलाया गया व दोनो पक्षों को समझाइश दिया गया कि कानूनी रूप से तलाक ले। आपसी समझौते के बाद प्रकरण को समाप्त कर दिया जायेगा।

  • पुलिस परिवार के बच्चों को स्कूल आने-जाने मिली बस की सुविधा

    पुलिस परिवार के बच्चों को स्कूल आने-जाने मिली बस की सुविधा

    मुख्यमंत्री  विष्णु देव साय और गृह मंत्री  विजय शर्मा ने हरी झंडी दिखाकर बस को किया रवाना

    मुख्यमंत्री ने पुलिस कॉलोनी आवासीय समिति के सदस्यों को सौंपी बस की चाबी

    पुलिस परिवार के लोगों ने मुख्यमंत्री और गृहमंत्री का जताया आभार

    सीएसआर मद से बच्चों को मिली बस की सुविधा

    इस मौके पर पुलिस परिवार के लोग भी रहे मौजूद

  • आयोग के निर्देश पर 6 माह का का बकाया वेतन 1 लाख 85 हजार रू. आवेदिका को मिला।

    छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक, सदस्यगण श्रीमती नीता विश्वकर्मा व श्रीमती बालो बघेल ने आज छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग के कार्यालय रायपुर में महिला उत्पीड़न से संबंधित प्रकरणों पर सुनवाई की। आयोग की अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक की अध्यक्षता में आज 252 वीं सुनवाई हुई। रायपुर जिले में कुल 124 वीं जनसुनवाई।

    आज की सुनवाई के दौरान एक प्रकरण में अनावेदिका को दिनांक 04/04/2024 से नारी निकेतन रायपुर में आयोग के द्वारा सुरक्षा की दृष्टिकोण से भेजी गई थी। उसके परिवार से अब तक किसी ने शपथ पत्र नही दिया था। अनावेदिका की मां ने शपथ पत्र दिया, उनके द्वारा आश्वासन दिया गया कि अनावेदिका व उसका पति कोरबा के परिवार न्यायालय में आपसी सहमति से तलाक की प्रक्रिया प्रारंभ करेंगे और तलाक की प्रक्रिया पूर्ण होने के पश्चात् उभय पक्ष आपस में विवाह के सामान का आदान प्रदान करेंगे। इस निर्देश के साथ प्रकरण नस्तीबध्द किया गया।

    आयोग में प्रकरण प्रस्तुत होते ही उभय पक्षों के मध्य विवाद का निराकरण हो चुका है व आवेदिका को 6 माह के मातृत्व अवकाश के वेतन का 1 लाख 85. 767 रू. अनावेदक के द्वारा आवेदिका को दिया जा चुका है। ऐसी स्थिति में प्रकरण का उद्देश्य पूर्ण हो चुका है। अतः प्रकरण नस्तीबध्द किया गया।

    अन्य प्रकरण में आवेदिका ने अनावेदक के विरूध्द शिकायत प्रस्तुत किया था, लेकिन सुनवाई के दौरान अनावेदक ने यह बताया कि आवेदिका के द्वारा अनावेदक के विरूध्द धारा 376 व 506 का अपराध दर्ज कर दिया है। जिसमें अनावेदक 13 दिन जेल में रहा है और जमानत पर रिहा हुआ है। चूंकिप्रकरण न्यायालय में लंबित है अतः आयोग में सुना जाना औचित्यहीन होने से प्रकरण नस्तीबध्द किया गया।

    एक अन्य प्रकरण में दोनों पक्षों को सुने जाने के दौरान यह पता चला कि अनावेदक के उपर सर्टिफिकेट कैंसल होने का प्रकरण माननीय उच्च न्यायालय में लंबित है ऐसी दशा में प्रकरण को आगे जारी रखना संभव नहीं है। इस स्तर पर आवेदिका ने कहा कि उसे 1 महिने का वेतन नहीं मिला है। जिसे अनावेदक ने देना स्वीकार किया गया और आवेदिका का सामान देने के बाद आयोग के समक्ष प्रस्तुत किया जाने पर प्रकरण नस्तीबध्द किया जायेगा।

    अन्य प्रकरण में दोनो पक्षों की काउंसलिंग के बाद दोनों पक्ष तलाक के लिए सहमत है। अनावेदक ने बताया कि उन्होंने रायपुर कोर्ट में तलाक के लिए आवेदन लगा दिया है। प्रकरण न्यायालय में होने के कारण आयोग से प्रकरण नस्तीबध्द किया जाता है।

  • बसा-बसाया घर उजाड़ने वाली दो महिलाओं को आयोग ने भेजा नारी निकेतन

     छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक, सदस्यगण श्रीमती नीता विश्वकर्मा व श्रीमती बालो बघेल ने आज छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग के कार्यालय रायपुर में महिला उत्पीड़न से संबंधित प्रकरणों पर सुनवाई की। आयोग की अध्यक्ष डॉ. किरणमयी नायक की अध्यक्षता में आज 253 वीं सुनवाई हुई। रायपुर जिले में कुल 125 वीं जनसुनवाई।

    महिलाएं शादी-शुदा पुरूष के साथ रहने से पहले हजार बार सोचे और उसकी पहली पत्नि को घर से निकलवाकर दूसरी पत्नी बनने का प्रयास ना करें और बसा-बसाया घर उजाडने का प्रयास ना करें। ऐसी महिलाओं को महिला आयोग सुधारने की दिशा में सक्त प्रयास करती है- डॉ. किरणमयी नायक

    आज की सुनवाई में आवेदिका ने बताया कि उसके पति ने आवेदिकासे बिना तलाक लिये दूसरी महिला को अपनी पत्नी बनाकर रखा है, जबकि दूसरी महिला ने भी अपने पति से तलाक नही लिया है। वर्तमान में दूसरी महिला के पास अपने रहने के लिए सुरक्षित स्थान नहीं था, इसलिए उसे नारी निकेतन सुरक्षा की दृष्टि से भेजा गया। दूसरी महिला के पति या उसके परिवार वालों के द्वारा आवेदन या शपथ पत्र दिये जाने पर ही उसे नारी निकेतन से वापस भेजा जा सकेगा। अनावेदक को समझाईश दिया गया कि वह आवेदिका से अपना व्यवहार सही रखे, अगर आवेदिका को कोई परेशानी हो तो वह पुलिस थाना में एफ.आई.आर. दर्ज करा सकेगी।

    इसी तरह एक अन्य प्रकरण में भी दूसरी महिला आवेदिका के बसे- बसाये घर को उजाड़ने के लिए अवैध रूप से आवेदिका के पति के साथ रह रही थी एवं आवेदिका को घर से निकाल दिया है। दूसरी महिला ने भी यह स्वीकार किया है कि वह आवेदिका के पति के साथ अवैध रूप से रह रही है और विवाह नहीं किया है। अनावेदिका (दूसरी महिला) के पूर्व पति की मृत्यु हो चुकी है। सुरक्षा के दृष्टिकोण से उसे सुधरने का मौका देकर 2 माह के लिए नारी निकेतन रायपुर भेजे जाने का आदेश आयोग द्वारा दिया गया।

    एक प्रकरण में सुनवाई के दौरान अनावेदक ने बताया कि आवेदिका पक्ष की शिकायत पर उसके विशब्द धारा 306 आई.पी.सी. का अपराध थाना तेलीबांधा में लगा है जिसमें अनावेदक 36 दिन जेल में रहा है और रायपुर जिला सत्र न्यायालय में अगली सुनवाई है। अनावेदक के अधिवक्ता ने पुष्टि की कि अनावेदक के विरुसब्द कोर्ट में पेशी चल रही है। इस स्तर पर आवेदिका पक्ष को समझाइश दिया गया कि यह अधिवक्ता की मदद लेकर अनावेदक के खिलाफ न्यायालय में चल रहे प्रकरण की पैरवी उचित तरह से कराये। इस सलाह के बाद प्रकरण नस्तीकन्द किया गया।