Top Story
गुरु गोविंद सिंह खालसा पब्लिक स्कूल में क्या है खासियत ?
गुरु गोविंद सिंह खालसा पब्लिक स्कूल, नंदनवन रोड, रुंगटा कॉलेज के पास, हाथबंध रायपुर छत्तीसगढ़ गुरु गोविंद सिंह खालसा पब्लिक स्कूल जो 8 एकड़ के विशाल क्षेत्र में निर्मित है, स्कूल की भव्य तीन मंजिला इमारत में नर्सरी से दसवीं तक की शिक्षा सीबीएसई पैटर्न पर दी जा रही है | इस स्कूल में 400 के करीब छात्र-छात्राएं इंग्लिश मध्यम से शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं, जिनमें 28 जरूरतमंद निर्धन छात्र-छात्राओं को निशुल्क शिक्षा दी जा रही है | पॉल्यूशन फ्री माहौल में आधुनिक तरीके से यहां छात्र-छात्राओं को पढ़ाया जाता है तथा फीस की बात करें तो बहुत ही कम फीस पर शिक्षा प्रदान कर यह स्कूल देश के विकास में सहभागी बन भागीरथी प्रयास कर रहा है | गुरु गोविंद सिंह खालसा पब्लिक स्कूल में अनुभवी शिक्षकों की एक बड़ी टीम है जो यहां पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं के भविष्य को उत्कृष्ट तरीके से ज्ञान उपलब्ध कराती है | इस स्कूल में क्लास वन से ही छात्र-छात्राओं को कंप्यूटर की शिक्षा दी जाती है, व्यक्तित्व विकास एवं अंग्रेजी भाषा पर विशेष फोकस किया जाता है, पढ़ने के कौशल में सुधार के लिए पुस्तकालय सुविधा के साथ-साथ विज्ञान के लिए विशेष प्रयोगशालाओं की व्यवस्था बच्चों का ज्ञानवर्धन करने में काफी सहयोगी होती हैं | विशाल हवादार क्लासरूम, बड़ा खेल मैदान, विभिन्न खेल प्रतियोगिताओं के लिए आउटडोर खेल मैदान और बगीचा की भी व्यवस्था है, स्मार्ट क्लास यहां की खासियत है बोर्ड परीक्षा में शत प्रतिशत एवं उत्कृष्ट परिणाम के कारण यह स्कूल पलकों को हर्ष प्रदान करता है| स्कूल की प्रिंसिपल श्रीमति योगिता दुबे ने बताया कि स्कूल में एडमिशन लेने वाले बच्चों को फिलहाल इस वर्ष एडमिशन फीस में छूट दी जा रही है | साथ ही मंथली ट्यूशन फीस भी काफी कम है स्कूल में सभी क्लासों के लिए एडमिशन चालू है स्कूल केंपस का निरीक्षण कर अपने बच्चों के भविष्य एवं उनकी पढ़ाई की गुणवत्ता, उनकी योग्यता को सामने लाने एवं मानसिक विकास के लिए एक बार अवश्य करें |
Entertainment News
  • "आई फोन": बी4यू म्यूजिक पर रितु लखीना और कसीम हैदर कसीम का एक आकर्षक हिट संगीत उद्योग हमेशा नए रिलीज से गुलजार रहता है, लेकिन कुछ ही महत्वपूर्ण प्रभाव पैदा करने में कामयाब होते हैं। ऐसा ही एक बेहतरीन गाना है "आई फोन", जिसमें रितु लखीना और कसीम हैदर कसीम की जोड़ी है। प्रतिभाशाली हर्ष गुर्ग द्वारा निर्देशित और बीबी एंटरटेनमेंट के बैनर तले एनके मूसवी द्वारा निर्मित, यह गाना आकर्षक लय, आकर्षक बोल और शानदार प्रोडक्शन का एक शानदार मिश्रण है। बी4यू म्यूजिक कंपनी द्वारा रिलीज किया गया, "आई फोन" संगीत प्रेमियों के बीच बहुत जल्दी पसंदीदा बन गया है। रितु लखीना और कसीम हैदर कसीम "आई फोन" में एक ताज़ा ऊर्जा लाते हैं। रितु की मधुर आवाज़ और कसीम की करिश्माई उपस्थिति एक परिपूर्ण सामंजस्य बनाती है, जो गाने को आकर्षक और यादगार दोनों बनाती है। उनकी केमिस्ट्री स्पष्ट है, और उनका प्रदर्शन जीवंत है, यह सुनिश्चित करता है कि श्रोता पहले नोट से ही बंधे रहें। हर्ष गुर्ग के निर्देशन ने "आई फोन" को एक नए स्तर पर पहुंचा दिया है। उनकी दूरदर्शिता और रचनात्मकता हर फ्रेम में झलकती है, जिससे संगीत वीडियो देखने में आकर्षक लगता है। कहानी दिलचस्प है और गाने के आधुनिक, उत्साहपूर्ण माहौल को पूरा करती है। फोटोग्राफी के निर्देशक (डीओपी), सचिन गुप्ता, अपने बेहतरीन काम के लिए विशेष उल्लेख के हकदार हैं। लाइटिंग और कैमरा एंगल के उनके विशेषज्ञ उपयोग ने निर्देशक की दूरदर्शिता को जीवंत कर दिया है, जिससे वीडियो एक विजुअल ट्रीट बन गया है। उच्च गुणवत्ता वाले प्रोडक्शन वैल्यू और स्टाइलिश सिनेमैटोग्राफी ने गाने की समग्र अपील को और बढ़ा दिया है। बीबी एंटरटेनमेंट के तहत एनके मूसवी द्वारा निर्मित, "आई फोन" शीर्ष-स्तरीय प्रोडक्शन मानकों का उदाहरण है। विभिन्न तत्वों - संगीत, दृश्य और कोरियोग्राफी - का सहज एकीकरण परियोजना के पीछे सावधानीपूर्वक योजना और निष्पादन को दर्शाता है। प्रोडक्शन की गुणवत्ता स्पष्ट है, जो उत्कृष्टता के प्रति प्रतिबद्धता को दर्शाती है जिसके लिए बीबी एंटरटेनमेंट जाना जाता है। पार्थ शर्मा द्वारा लिखे गए "आई फोन" के बोल समकालीन और प्रासंगिक हैं, जो आधुनिक रिश्तों और हमारे जीवन में प्रौद्योगिकी की भूमिका का सार प्रस्तुत करते हैं। चतुर शब्दों का खेल और आकर्षक वाक्यांश इस गीत को गाने में आसान बनाते हैं, साथ ही यह रोज़मर्रा के अनुभवों को एक नया रूप भी देते हैं। शर्मा की गीतात्मक क्षमता यह सुनिश्चित करती है कि गीत व्यापक दर्शकों, विशेष रूप से युवा पीढ़ी को पसंद आए। नीतीश चंद्रा का संपादन "आई फोन" का एक और मुख्य आकर्षण है। दृश्य अपील को बढ़ाते हुए सहज प्रवाह बनाए रखने की उनकी क्षमता सराहनीय है। बदलाव सहज हैं, और गति दर्शकों को पूरे समय बांधे रखती है। चंद्रा की विशेषज्ञता यह सुनिश्चित करती है कि वीडियो का हर पल कुरकुरा और प्रभावशाली हो, जो गीत के समग्र आनंद को बढ़ाता है। दिनेश साहनी की कोरियोग्राफी संगीत वीडियो में एक ऊर्जावान वाइब लाती है। नृत्य क्रम अच्छी तरह से समन्वित हैं और गीत की लय के साथ पूरी तरह से संरेखित हैं। साहनी की कोरियोग्राफी, कलाकारों के प्रदर्शन के साथ मिलकर एक जीवंत और मनोरंजक दृश्य अनुभव बनाती है जो गीत की अपील को बढ़ाती है। B4U म्यूजिक कंपनी द्वारा रिलीज़ किया गया "आई फ़ोन" ने बहुत तेज़ी से लोकप्रियता हासिल की है और संगीत प्रेमियों से सकारात्मक समीक्षा प्राप्त की है। कंपनी की व्यापक पहुँच और प्रभावी प्रचार रणनीतियों ने सुनिश्चित किया है कि यह गीत बड़ी संख्या में दर्शकों तक पहुँचे, जिससे इसकी सफलता में योगदान मिला। "आई फ़ोन" संगीत उद्योग में प्रतिभाशाली व्यक्तियों के सहयोगात्मक प्रयासों का एक प्रमाण है। रितु लखीना और कसीम हैदर कसीम की मनमोहक आवाज़ों से लेकर हर्ष गुर्ग के दूरदर्शी निर्देशन और एनके मूसवी के बेहतरीन प्रोडक्शन तक, गाने के हर तत्व को सटीकता और जुनून के साथ तैयार किया गया है। पार्थ शर्मा के आकर्षक बोल, सचिन गुप्ता की शानदार सिनेमैटोग्राफी, नितीश चंद्रा की बेहतरीन एडिटिंग और दिनेश साहनी की जीवंत कोरियोग्राफी सभी मिलकर एक यादगार संगीतमय अनुभव बनाते हैं। B4U म्यूजिक कंपनी द्वारा रिलीज़ किया गया "आई फ़ोन" एक आधुनिक हिट है जो आज के संगीत परिदृश्य की भावना को पूरी तरह से दर्शाता है।
  • क्या कोई भी इंसान सिर्फ पैसे से अमीर बनकर हमेशा खुश रह सकता है,जब तक उसके जीवन में माता-पिता, पत्नी और बच्चों का साथ न हो ?

    क्या कोई भी इंसान सिर्फ पैसे से अमीर बनकर हमेशा खुश रह सकता है,जब तक उसके जीवन में माता-पिता, पत्नी और बच्चों का साथ न हो ?

     

    जीवन जीने के लिए रुपए पैसे की आवश्यकता होती ही है। बहुत ज्यादा पैसे के पीछे भागना भी उचित नहीं है। परंतु मौलिक जरूरतों को तो पूरा करना ही पड़ेगा , जो रोटी कपड़ा मकान से संबंधित है। और यह सब भी जो आपका समाज में दर्जा है रुतबा है उसके अनुसार ही करना पड़ेगा। मकान, आप एक झोपड़ी में नहीं रह सकते। रोटी ,जो बेचारा गरीब मजदूर रिक्शावाला तांगेवाला ठेलेवाला मजदूरी करने वाला या एक भीख मांगने वाला खाता है, वैसा खाना आप नहीं खा सकते और कपड़ा भीआपको अपनी हैसियत के हिसाब से रखना पड़ेगा। इन सबके लिए पैसा कमाने के लिए कोई नहीं रोक सकता। कहावत भी है कि जब तक आपका पेट भरा न हो भगवान की पूजा भी नहीं कर सकते" भूखे पेट भजन नहीं होत गोपाला"...।

     

  • आपने बेसन की बर्फी या लड्डू तो कई बार खाए होंगे, लेकिन बेसन का हलवा शायद ही ट्राई किया हो.

     अगर गर्म बेसन का हलवा खाने को मिल जाए तो मज़ा आ जाता है. बेसन स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होता है. आपने बेसन की बर्फी या लड्डू तो कई बार खाए होंगे, लेकिन बेसन का हलवा शायद ही ट्राई किया हो. ये हलवा बनाने में काफी आसान है. बच्चों को बुजुर्गों को बेसन का ये हलवा बहुत पसंद आएगा. आप इसे जरूर बनाएं. 

    बेसन का हलवा बनाने के लिए सामग्री
    100 ग्राम बेसन 
    100 ग्राम घी
    100 ग्राम चीनी
    400 मि. ली. दूध 
    10-12 कटे हुए बादाम  
    10-12 कटे हुए काजू 
    10-12 कटे हिए पिस्ता
    4-5 इलाइची का पाउडर 

    बेसन का हलवा बनाने की रेसिपी (Besan Ka Halwa Recipe)

    1- सबसे पहले एक पैन में पूरा घी डाल दें और गैस पर गर्म होने के लिए रख दें. 
    2- घी के पिघलने के बाद पैन में बेसन डाल दें और मीडियम आंच पर बेसन को गोल्डन होने तक भून लें.
    3- जब बेसन का रंग बदल जाए और खुश्बू आने लगे तो समझिए बेसन भुन गया है. इसके बाद बेसन घी छोड़ने लगेगा. 
    4- बेसन को भूनने में आपको करीब 15 मिनिट का समय लगेगा. 
    5- अब बेसन में चीनी डालकर इसे चलाते हुए करीब 4-5 मिनिट और भून लें.
    6- बेसन में चीनी डालकर भूनने से हलवा का रंग बहुत अच्छा आता है.
    7- अब गैस को धीमा करके बेसन में दूध मिलाते जाएं. 
    8- अब लो फ्लेम पर चलाते हुए गाढ़ा होने तक बेसन को पका लें. साथ ही गुठलियों को कलछी से फोड़ते जाएं.
    9- जब बेसन हलवा जैसा गाढ़ा हो जाए तो इसमें कटे हुए काजू , बादाम और पिस्ता डाल दें. 
    10- हलवा में इलायची पाउडर डालकर मिक्स कर लें. 
    11- आप चाहें तो सर्व करते वक्त या हलवा बनने के बाद ऊपर से 2 चम्मच घी और डाल सकते हैं. इससे स्वाद और बढ़ जाएगा.
    12- हलवा को बादाम, काजू और पिस्ता से गार्निश करके सर्व करें.

  • बृहस्पतिवार को कुछ विशेष उपाय करने से गुरु की दशा में सुधार होने लगता है आइए जानते हैं क्या हैं ये उपाय-

    गुरुवार के दिन दूध और केसर की खीर बनाएं। इसके बाद जगत के पालनहार भगवान विष्णु को भोग लगाएं। फिर पूरे परिवार के साथ बैठकर खाएं, जो लोग यह उपाय करते हैं उनके रिश्तों में प्रेम बढ़ता है। साथ ही जीवन सुखी और समृद्ध रहता है।

     

    • गुरुवार को घी का दीपक जलाएं
      गुरुवार को जल्दी उठकर सूर्य देवता को जल चढ़ाएं. उसके बाद अपने घर के मंदिर में भगवान विष्णु का पूजन करके उनके सामने घी का दीपक जलाकर रखें और अच्‍छा होगा यदि आप कलावे की बाती से यह दीपक जलाएं और उसमें थोड़ा सा केसर भी डाल दें. भगवान विष्‍णु आपसे प्रसन्‍न होकर आपको सुखी और संपन्‍न बनाएंगे.
    • विष्णु चालीसा या विष्णु नाम स्तोत्र का पाठ करें 
      गुरुवार के दिन विष्णु चालीसा या विष्णु नाम स्हस्त्रनाम का पाठ करने से भगवान प्रसन्न होते हैं और आप तरक्की के मार्ग पर चलते हैं. कुश के आसन पर बैठकर विष्‍णु चालीसा या फिर विष्‍णु सहस्‍त्रनाम का पाठ करें. पाठ पूरा होने के बाद भगवान को किसी पीले मिष्‍ठान का भोग लगाएं. 
    • गुरुवार को पीले फलों का करें दान
      शास्त्रों में बताया गया है कि गुरुवार को फलों का दान करने से आपकी कुंडली में शुभ योग बनता है और गुरु की स्थिति मजबूत होती है. खासतौर पर गुरुवार को पीले फलों का दान करने से बृहस्पति देवता की अतिरिक्त कृपा बनती है. जरूरतमंद लोगों को फलों का दान अवश्‍य करें. अस्पताल में जाकर मरीजों के बीच में भी आप फल बांट सकते हैं. ऐसा करने से आपको बहुत पुण्‍य मिलेगा.
    • गुरुवार को दूध केसर का उपाय
      गुरुवार के दिन किसी भी तरह से केसर का प्रयोग आपकी ग्रह स्थिती को बेहतर बना सकता है. गुरुवार की रात को दूध में केसर डालकर उसका उपयोग करें. इसके अलावा आप चाहें तो दूध और केसर की खीर बनाकर पहले भगवान विष्‍णु को भोग लगाएं और फिर पूरे परिवार के साथ मिलकर खाएं. यह उपाय आपके घर के लोगों के बीच प्रेम बढ़ाएगा और आपको सुखी और समृद्ध बनाएगा. 
    • गुरुवार को जरूर लें गुरु का आशीर्वाद
      मान्यता है कि गुरुवार का दिन गुरु को समर्पित है. यदि आपके कोई आध्यात्मिक गुरु हैं या कोई मेंटर है तो इस दिन उनसे मिलकर या फोन पर बात करके उनका आशीर्वाद जरूर लें. ऐसा करने से जीवन में तरक्की और अनुशासन आता है.