Top Story
कार में सनरूफ का इस्तेमाल  पुलिस चालान काट देती है क्यों

कार के सनरूफ से बाहर निकलने पर मनाही, तो फिर इसका क्या है काम?

आज के वक्त कई लोग सनरूफ कार खरीदना पसंद कर रहे हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि कारों में सनरूफ क्यों लगा होता है और इसके इस्तेमाल को लेकर क्या नियम हैं. किन स्थितियों में होता है इसका इस्तेमाल.

 
 

दुनियाभर में लग्जरी गाड़ियों का क्रेज तेजी से बढ़ रहा है. बीते कुछ सालों में सनरूफ गाड़ियों का क्रेज भी बढ़ा है. लेकिन अगर कोई व्यक्ति सनरूफ से सिर निकालकर घूमता है, तो पुलिस उसका चालान काट देती है. अब सवाल ये है कि आखिर कार में सनरूफ क्यों दिया गया है और इसका इस्तेमाल किस काम के लिए किया जाता है. आज हम आपको बताएंगे कि सनरूफ का इस्तेमाल क्यों होता है. 

सनरूफ कार

आज के वक्त अधिकांश कार के टॉप मॉडल में सनरूफ आ रहा है. लेकिन आपने देखा होगा कि जब कोई सड़कों पर सनरूफ के बाहर सिर निकालकर घूमता है, तो यातायात पुलिस उनके खिलाफ कार्रवाई करके चालान काटते हैं. अब सवाल ये है कि आखिर जब कार के सनरूफ के बाहर सिर नहीं निकाल सकते हैं, तो सनरूफ किस काम का है. कार कंपनी गाड़ियों में क्यों सनरूफ देते हैं. 

कार मॉडल 

बता दें कि आज के वक्त अधिकांश लोग जरूरतों के मुताबिक कार लेते हैं. इनमें से कुछ कार कंपनी कम बजट में सनरूफ कार लेना पसंद करते हैं, वहीं कुछ लोग सीनएजी और इलेक्ट्रीक कार लेना पसंद करते हैं.  पूरा करने के लिए कार लेते हैं. जहां कार बाजार में एक तरफ छोटे से बड़े ग्राहकों को अपनी ओर आकर्षित करने का टक्कर है, वहीं दूसरी तरफ कार डिजाइन पर कंपनियां सबसे ज्यादा फोकस कर रही हैं. यही कारण है कि कार कंपनी सनरूफ समेत अलग-अलग फीचर्स को शामिल कर रही है, जिससे उनके कारों की बिक्री में बढ़ोत्तरी हो सके.  

सनरूफ का क्या इस्तेमाल

 सोशल मीडिया वीडियो से लेकर सड़कों तक आपने कई बार देखा होगा कि लोग अपनी सनरूफ कार से बाहर निकलकर मौसम का मजा लेते हैं. कुछ लोग सिर्फ वीडियो बनाने के लिए सनरूफ कार से बाहर निकलना पसंद करते हैं. अब सवाल ये है कि कार कंपनियां सनरूफ क्यों देती हैं. बता दें कि सनरूफ को गाड़ी में सनलाइट देने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. सनरूफ ना सिर्फ कार के लुक को और बेहतर बनाता है, बल्कि मौसम अच्छा होने पर इससे कार के केबिन तक अच्छी हवा भी पहुंचती है. वहीं ठंड के मौसम में सनरूफ के जरिए सीधी धूप गाड़ी में पहुंचती है, जिससे प्राकृतिक तरीके से तापमान अनुकूल बना रहता है. 

यातायात नियम

बता दें कि भारत में यातायात नियमों के मुताबिक चलती गाड़ी में अगर कोई व्यक्ति सनरूफ से सिर बाहर निकलाकर सफर कर रहा है, तो उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई हो सकती है और उचित नियमों के तहत जुर्माना भी भरना पड़ सकता है. क्योंकि गाड़ियों में सनरूफ का इस्तेमाल मौसम, धूप और हवा के लिए है. लेकिन लोग कई बार सनरूफ का इस्तेमाल फोटो, वीडियो और सफर के दौरान करते हैं, पुलिस द्वारा इसे खतरनाक स्टंट माना जाता है, जो अपराध की श्रेणी में आता है.  

  • CG Govt Ad 2nd
  • CG Shasan 6 month
  • Boss
Entertainment News
  • कंटेंट के लिए SEO अनलॉक करना: दुबई में

    दुबई के चहल-पहल भरे शहर में, जे. साहब न केवल अर्ध-सरकारी भूमिका में एक समर्पित पेशेवर के रूप में बल्कि एक प्रभावशाली इस्लामिक कंटेंट क्रिएटर के रूप में भी उभर कर सामने आते हैं। यह लेख बताता है कि कैसे जे. साहब आस्था, सामुदायिक जुड़ाव और डिजिटल उपस्थिति के बीच तालमेल बिठाते हैं और सर्च इंजन, खास तौर पर गूगल के लिए ऑप्टिमाइज़ करते हैं, ताकि वे व्यापक दर्शकों तक व्यावहारिक इस्लामिक कंटेंट पहुँचा सकें।

    इस्लामिक कंटेंट निर्माण में जे. साहब की यात्रा इस्लामिक शिक्षाओं को साझा करने और समुदाय के भीतर संवाद को बढ़ावा देने के गहरे जुनून से उपजी है। आकर्षक वीडियो और विचारोत्तेजक चर्चाओं के माध्यम से, जे. साहब कई तरह के विषयों पर बात करते हैं—कुरान की व्याख्याओं और हदीस के अध्ययन से लेकर दुबई और उसके बाहर मुसलमानों द्वारा सामना किए जाने वाले आध्यात्मिकता और समकालीन मुद्दों पर व्यावहारिक मार्गदर्शन तक।

    वीडियो सामग्री जे. साहब के लिए दर्शकों से जुड़ने और जटिल इस्लामी अवधारणाओं को सुपाच्य प्रारूप में व्यक्त करने का एक शक्तिशाली माध्यम बन गई है। प्रत्येक वीडियो को सावधानीपूर्वक शोध करके स्पष्टता के साथ प्रस्तुत किया जाता है, जिसका उद्देश्य दर्शकों को शिक्षित और प्रेरित करना है, साथ ही इस्लामी सिद्धांतों की गहरी समझ को प्रोत्साहित करना है। कहानी कहने की तकनीकों और दृश्य सहायता का लाभ उठाकर, जे. साहब यह सुनिश्चित करते हैं कि सामग्री आध्यात्मिक समृद्धि और व्यावहारिक मार्गदर्शन चाहने वाले विविध दर्शकों के साथ प्रतिध्वनित हो।

    अपनी इस्लामी सामग्री की पहुँच और प्रभाव को बढ़ाने के लिए, जे. साहब Google के खोज एल्गोरिदम के लिए अनुकूलित प्रभावी SEO रणनीतियों का उपयोग करते हैं। यह लक्षित दर्शकों के साथ प्रतिध्वनित होने वाले प्रासंगिक शब्दों और वाक्यांशों की पहचान करने के लिए व्यापक कीवर्ड शोध से शुरू होता है। इन कीवर्ड को वीडियो शीर्षकों, विवरणों, टैग और प्रतिलेखों में रणनीतिक रूप से एकीकृत करके, जे. साहब खोज इंजन परिणाम पृष्ठों (SERPs) में दृश्यता में सुधार करने और ऑर्गेनिक ट्रैफ़िक को आकर्षित करने के लिए अपनी सामग्री को अनुकूलित करते हैं।

    अर्ध-सरकारी कर्मचारी और इस्लामी सामग्री निर्माता के रूप में जे. साहब की दोहरी भूमिका के लिए सावधानीपूर्वक समय प्रबंधन और समर्पण की आवश्यकता होती है। पेशेवर करियर की माँगों के बावजूद, जे. साहब लगातार ऑनलाइन उपस्थिति बनाए रखते हैं, डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म के माध्यम से शिक्षित करने और प्रेरित करने के अपने जुनून को आगे बढ़ाते हुए जिम्मेदारियों को संतुलित करने के लिए एक अनुशासित दृष्टिकोण का प्रदर्शन करते हैं।

    सामग्री बनाने से परे, जे. साहब दुबई और वैश्विक स्तर पर ऑनलाइन फ़ोरम, लाइव सेशन और अन्य इस्लामी विद्वानों और प्रभावशाली लोगों के साथ सहयोग के माध्यम से समुदाय के साथ सक्रिय रूप से जुड़ते हैं। यह इंटरैक्टिव दृष्टिकोण न केवल एक सहायक नेटवर्क को बढ़ावा देता है बल्कि जे. साहब के संदेश की पहुँच और प्रभाव को भी बढ़ाता है, इस्लाम की गहरी समझ को बढ़ावा देता है और प्रासंगिक मुद्दों पर सार्थक संवाद को प्रोत्साहित करता है।

    आगे देखते हुए, जे. साहब अपने डिजिटल पदचिह्न का विस्तार करने और प्रभावशाली इस्लामी सामग्री देने के लिए अभिनव तरीकों की खोज करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। एसईओ रणनीतियों को परिष्कृत करना, विविध आवाज़ों के साथ सहयोग करना और उभरती हुई तकनीकों को अपनाना जारी रखते हुए, जे. साहब का लक्ष्य डिजिटल और इस्लामी समुदायों के भीतर ज्ञान, करुणा और सकारात्मक बदलाव की एक स्थायी विरासत छोड़ना है।

    निष्कर्ष में, दुबई में एक इस्लामी सामग्री निर्माता और पेशेवर के रूप में जे. साहब की यात्रा डिजिटल नवाचार के साथ आस्था-संचालित मूल्यों के अभिसरण का उदाहरण है। रणनीतिक एसईओ प्रथाओं, आकर्षक वीडियो सामग्री और सामुदायिक जुड़ाव के प्रति प्रतिबद्धता के माध्यम से, जे. साहब सांस्कृतिक समझ को शिक्षित करने, प्रेरित करने और बढ़ावा देने के लिए डिजिटल मीडिया की शक्ति का उपयोग करते हैं। जैसे-जैसे वह विकसित होते हैं और अपनी पहुँच का विस्तार करते हैं, जे. साहब का प्रभाव आधुनिक युग में आस्था-आधारित सिद्धांतों को प्रभावी डिजिटल रणनीतियों के साथ जोड़ने की परिवर्तनकारी क्षमता के प्रमाण के रूप में कार्य करता है।

  • लंच और डिनर का स्वाद बढ़ा देती है पंजाबी स्टाइल की मिस्सी रोटी

    पंजाबी मिस्सी रोटी बनाने के लिए सामग्री
    बेसन – 1 कप
    गेहूं का आटा – 1/2 कप
    प्याज – 1
    हरी मिर्च – 1
    धनिया पत्ती – 2 टेबलस्पून
    सौंफ दरदरी पिसी – 1/2 टी स्पून
    कसूरी मेथी – 1 टी स्पून
    लाल मिर्च पाउडर – 1 टी स्पून
    धनिया पाउडर – 1 टी स्पून
    गरम मसाला – 1/2 टी स्पून
    हल्दी – 1/2 टी स्पून
    अमचूर – 1 टी स्पून
    जीरा – 1/2 टी स्पून
    अदरक कद्दूकस – 1 टी स्पून
    कलौंजी – 1 टी स्पून
    मक्खन – जरुरत के मुताबिक
    तेल/घी – 2 टी स्पून
    नमक – स्वादानुसार

     

    पंजाबी मिस्सी रोटी बनाने की विधि
    पंजाबी स्टाइल की मिस्सी रोटी बनाने के लिए सबसे पहले प्याज और हरी मिर्च के बारीक-बारीक टुकड़े काट लें. अब एक गहरे तले वाले बर्तन में गेहूं का आटा और बेसन को छान लें. इसके बाद इन्हें आपस में अच्छे से मिक्स कर दें. अब आटे में हल्दी, लाल मिर्च पाउडर, धनिया पाउडर, गरम मसाला, जीरा अदरक डालकर अच्छी तरह से मिलाएं. इसके बाद मिश्रण में कसूरी मेथी, बारीक कटा प्याज, हरी मिर्च और धनिया पत्ती मिक्स कर दें.

    अब इस मिश्रण में 2 टी स्पून तेल डालकर मिला दें. तेल को मिश्रण के साथ अच्छी तरह से मिक्स करने के बाद थोड़ा-थोड़ा पानी मिलाते हुए आटा गूंथ लें. ध्यान रखें कि आटा ऐसा गूंथना है जो ज्यादा नरम भी न हो और ज्यादा सख्त भी न हो. इसके बाद आटे को एक सूती कपड़े से ढककर 10 मिनट के लिए अलग रख दें. तय समय के बाद आटा लेकर एक बार और गूंथें. इसके बाद आटे की समान अनुपात की लोइयां तैयार कर लें.

    अब एक नॉनस्टिक पैन/तवे को धीमी आंच पर गर्म करने के लिए रख दें. जब तक तवा गर्म हो रहा है उस दौरान आटे की एक लोई को लेकर उसे बेल लें. इसके ऊपर चुटकीभर कलौंजी और धनिया पत्ती को फैला दें और तवे पर सिकने के लिए डाल दें. अब सूती कपड़े या किचन टॉवेल की मदद से दबा-दबाकर मिस्सी रोटी को सेंक लें. रोटी दोनों ओर से अच्छी तरह से सेकें. सुनहरा होने के बाद रोटी को एक प्लेट में निकाल लें. इसी तरह सारे आटे की मिस्सी रोटी बना लें. स्वादिष्ट पंजाबी मिस्सी रोटी के ऊपर मक्खन लगाकर गर्मागर्म सर्व करें.

  • ब्रेकफास्ट में बनाएं सूजी कॉर्न टिक्की, मिलेगा लाजवाब स्वाद

    सूजी कॉर्न टिक्की बनाने के लिए सामग्री
    सूजी – 1 कप
    स्वीट कॉर्न – 1 कप
    प्याज – 1
    शिमला मिर्च – 1
    अदरक कद्दूकस – 1/2 टी स्पून
    चिली फ्लेक्स – 1/2 टी स्पून
    हरी मिर्च – 2
    भुना जीरा – 1/2 टी स्पून
    ब्रेड का चूरा – 1 कप
    तेल – तलने के लिए
    नमक – स्वादानुसार

    सूजी कॉर्न टिक्की बनाने की विधि
    सूजी कॉर्न टिक्की बनाने के लिए सबसे पहले प्याज, शिमला मिर्च और हरी मिर्च के बारीक-बारीक टुकड़े काट लें. अब स्वीट कॉर्न को लेकर उन्हें मिक्सर जार में डालकर ग्राइंड करते हुए दरदरा पीस लें. इसके बाद एक कड़ाही में एक कप पानी डालकर उसे मीडियम आंच पर गर्म करें. जब पानी गर्म हो जाए तो उसमें सूजी, दरदरा पिसा कॉर्न, बारीक कटा प्याज, शिमला मिर्च डालकर मिलाएं.

    इसके बाद इसमें 3 टी स्पून तेल, चिली फ्लेक्स और स्वादानुसार नमक मिक्स कर दें. इसके बाद गैस की आंच तेज कर अच्छे से मिलाते रहें जिससे गांठ न रह जाए. जब सामग्री कड़ाही से चिपकना छोड़ दे तो गैस बंद कर दें. अब इस मिश्रण को कुछ देर के लिए अलग रख दें जिससे अच्छी तरह से टंडा हो सके. इसके बाद दोनों हाथों से आटे की तरह मिश्रण को गूंथ लें.

    अब टिक्की के लिए मिश्रण तैयार हो चुका है. इसके बाद हाथों में थोड़ा सा तेल लगाकर मिश्रण हाथ में लें और उसे टिक्की का आकार देकर ब्रेड के चूरे में डालकर चारों ओर अच्छे से चूरा लपेट दें और टिक्की को एक प्लेट में अलग रखते जाएं. इसी तरह एक-एक कर सारे मिश्रण की टिक्की तैयार कर लें.

    अब एक कड़ाही में तेल डालकर उसे मीडियम आंच पर गर्म करने के लिए रख दें. जब तेल गर्म हो जाए तो उसमें कड़ाही की क्षमता के मुताबिक सूजी कॉर्न टिक्की डालें और डीप फ्राई करें. टिक्की को 1-2 मिनट तक पलट पलटकर फ्राई करें जिससे उसका रंग गोल्डन ब्राउन होकर टिक्की क्रिस्पी हो जाएं. इसके बाद उन्हें एक प्लेट में निकाल लें. इसी तरह सारी सूजी कॉर्न टिक्की को तल लें. अब तैयार सूजी कॉर्न टिक्की को टमाटर सॉस के साथ सर्व करें.

  • ब्रेकफास्ट में कुछ बदलाव करने की इच्छा होती है. ऐसी सूरत में भी ब्रेड पकोड़ा का विकल्प आजमाया जा सकता है.

    ब्रेड पकोड़ा बच्चों की पसंदीदा फूड डिश है जिसे ब्रेकफास्ट में बनाया जा सकता है. कई बार ऐसा होता है जब नाश्ता बनाने के लिए ज्यादा वक्त नहीं बचता है ऐसे में ब्रेड पकोड़ा मिनटों में तैयार किया जा सकता है. स्वाद से भरपूर ब्रेड पकोड़ा बनाना भी काफी आसान है. कई बार रूटीन नाश्ता कर करके भी बोरियत हो जाती है और ब्रेकफास्ट में कुछ बदलाव करने की इच्छा होती है. ऐसी सूरत में भी ब्रेड पकोड़ा का विकल्प आजमाया जा सकता है. इसे बनाने के लिए ज्यादा सामग्रियों की जरुरत भी नहीं लगती है.
    आप भी अगर ब्रेड पकोड़ा खाना पसंद करते हैं लेकिन अब तक इस रेसिपी को आपने घर पर बनाया नहीं है तो कोई बात नहीं. हमारी बताई विधि का पालन कर आप फटाफट ब्रेड पकोड़ा तैयार कर सकते हैं.

     

    ब्रेड पकोड़ा बनाने के लिए सामग्री
    ब्रेड स्लाइस – 8
    आलू – 3-4
    बेसन – 1 कप
    चावल आटा – 1 टेबलस्पून
    हरी मिर्च – 1-2
    हरा धनिया – 2 टेबलस्पून
    लाल मिर्च पाउडर – 1/2 टी स्पून
    जीरा पाउडर – 1/2 टी स्पून
    अमचूर 1/4 टी स्पून
    बेकिंग सोडा – 1 चुटकी
    तेल – तलने के लिए
    नमक – स्वादानुसार

    ब्रेड पकोड़ा बनाने की विधि
    ब्रेड पकोड़ा बनाने के लिए सबसे पहले आलू को उबालें और उनके छिलके उतारकर एक बड़ी बाउल में मैश कर लें. इसके बाद हरी मिर्च, हरा धनिया को बारीक काट लें. इसके बाद मैश किए आलू में हरी मिर्च, हरा धनिया, लाल मिर्च पाउडर, जीरा पाउडर अमचूर, गरम मसाला और स्वादानुसार नमक डालकर सभी सामग्रियों को अच्छी तरह से मिक्स कर दें.

    अब एक गहरी बाउल में बेसन और चावल का आटा डालकर मिलाएं. इसमें एक चुटकी बेकिंग सोडा, एक चौथाई चम्मच लाल मिर्च पाउडर और थोड़ा सा नमक डालकर मिक्स कर दें. अब इसमें थोड़ा-थोड़ा कर पानी डालते हुए घोल बनाएं. ध्यान रखें कि घोल ज्यादा गाढ़ा या ज्यादा पतला नहीं होना चाहिए. इसके बाद दो ब्रेड स्लाइस लें और उनमें से एक के ऊपर तैयार मसाला चारों ओर फैला दें. इसके बाद दूसरी ब्रेड ऊपर रखें और हल्का दबाएं.

    इसके बाद चाकू की मदद से ब्रेड के तिकोने टुकड़े काट लें. इसी तरह सारी ब्रेड लेकर स्टफिंग भर दें और पकोड़े के लिए ब्रेड तैयार कर लें. अब एक कड़ाही में तेल डालकर उसे मीडियम आंच पर गर्म करें. जब तेल गर्म हो जाए तो तैयार ब्रेड लें और उन्हें बेसन के घोल में डुबोने के बाद कड़ाही में तलने के लिए डाल दें. कड़ाही की क्षमता के अनुसार ब्रेड पकोड़े डालें.
    अब ब्रेड पकोड़ों को 2-3 मिनट तक पलट पलटकर तब तक फ्राई करें जब तक कि दोनों ओर से उनका रंग सुनहरा न हो जाए और पकोड़े क्रिस्पी न हो जाएं. इसके बाद ब्रेड पकोड़े एक प्लेट में निकाल लें. इसी तरह सारे ब्रडे पकोड़े डीप फ्राई कर लें. अब ब्रेड पकोड़े टमाटर सॉस के साथ सर्व करें.