Top Story
  • एक मार्च से रायपुर में घरेलू रसोई गैस के दाम में 50 रुपये की बढ़ोतरी

    घरेलू रसोई गैस और महंगी मिलेगी -  रायपुर में घरेलू रसोई गैस सिलिंडर के दाम 50 रुपये की बढ़ोतरी हुई और यह 1174 रुपये पहुंच गया

    दिसंबर 2020 में 665 रुपये में उपलब्ध घरेलू रसोई गैस के दाम अब 509 रुपये बढ़कर 1174 रुपये हो गए।

    रायपुर।  मार्च का महीना लगते ही आम उपभोक्ताओं के लिए महंगाई की मार और बढ़ गई है। पहले से ही रसोई गैस की बढ़ती कीमतों से त्रस्त आम उपभोक्ताओं को अब घरेलू रसोई गैस और महंगी मिलेगी। बुधवार एक मार्च से रायपुर में घरेलू रसोई गैस के दाम 50 रुपये की बढ़ोतरी हुई और यह 1174 रुपये पहुंच गया। इसके साथ ही व्यावसायिक सिलेंडर की कीमतें भी 2309 रुपये हो गई है। पांच किलो का छोटा सिलिंडर भी अब 430 रुपये में मिलेगा। रसोई गैस के साथ ही पेट्रोल डीजल की कीमतों में भी जबरदस्त बढ़ोतरी हुई है। ​बीते सवा दो वर्ष में ही रसोई गैस की कीमतों में जबरदस्त बढ़ोतरी हुई है। 

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वागत के लिये वाराणसी में 10 किमी तक गुलाब की पंखुड़ी बिछाई गयी थी : कांग्रेस
    *गुलाब से गुलाल पर भाजपा अनर्गल प्रलाप कर रही-कांग्रेस* *राजेश मूणत को सनातन परंपरा का ज्ञान नहीं* रायपुर/28 फरवरी 2023। गुलाब की पंखुड़ी से गुलाल बनाये जाने पर भाजपा द्वारा दिये गये बयान को कांग्रेस ने मुद्दाविहीन भाजपा का प्रलाप बताया है। प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि पुष्प देवी-देवताओं पर चढ़ाया जाय, देवालयों पर चढ़ाया जाय, पुष्पगुच्छ के रूप में किसी का स्वागत किया जाय, हार के रूप में राजनेताओं का स्वागत किया जाय, उसके बाद फूल का दूसरा सबसे महत्वपूर्ण उपयोग होता है उससे खाद बनाया जाय, इत्र बनाया जाय या अगरबत्ती बनाया जाय अथवा गुलाल बना कर उपयोग किया जाय। गुलाब की पंखुड़ी से गुलाल बनाया जा रहा तो इसमें भाजपा क्यों हाय तौबा मचा रही है? प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि राजेश मूणत को सनातन धर्म का ज्ञान नहीं है। दरअसल पारिवारिक संस्कार में उन्हें हिन्दू धर्म और सनातन परंपरा ज्ञान नहीं मिला है। पुष्प और पत्र पवित्र वस्तु मानी जाती है। उसका जब नये सिरे से पूर्ण संस्कारित और परिशोधित कर दिया जाय तो वह फिर से पवित्र हो जाती है। हिन्दू धर्म में बेलपत्र को सहस्त्रबार धोकर उपयोग किया जाता है उसी प्रकार जब फूल इत्र, गुलाल, अगरबत्ती, धूपबत्ती के रूप में परिवर्तित हो जायेगी तो नये स्वरूप में वह फिर से पवित्र हो जायेगी। राजेश मूणत को सनातन परंपरा की दुहाई देने से पहले किसी हिन्दू धर्म के जानकार से हिन्दू परंपराओं का ज्ञान लेना चाहिये। प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वागत के लिये वाराणसी में 10 किमी तक गुलाब की पंखुड़ी बिछाई गयी थी उसके बाद बनारस में भी उससे गुलाल बनाया गया था तब भाजपा को सनातन परंपरा की याद नहीं आयी थी।
  • राहुल गांधी राष्ट्रीय अधिवेशन में बोलते हुए -  क्या-क्या कटाक्ष किए ?  जानिए
    भारत देश में वर्षों तक राज करने वाले नेहरू परिवार के वारिस राहुल गांधी के पास अपना खुद का मकान नहीं कांग्रेस के रायपुर में चल रहा है राष्ट्रीय अधिवेशन के अंतिम दिन राहुल गांधी ने किया खुलासा राहुल गांधी ने कहा कि मैंने अपने आप को बदल लिया है हिंदुस्तान एक भावना है एक सोचने का तरीका है इज्जत है आदर है मोहब्बत है यह जो झंडा है तिरंगा इस भावना का चिन्ह है और जनता ने इस भावना को पूरे देश में फैलाया है यह काम कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने किया है नेताओं ने किया है और हिंदुस्तान की जनता ने किया है - राहुल गांधी कुछ दिन पहले इंटरव्यू में एक मंत्री ने कहा कि चाइना की इकोनॉमी हिंदुस्तान की इकानामी से बड़ी है तो हम उनसे कैसे लड़ सकते हैं ? जब अंग्रेज हम पर राज करते थे तो क्या उनकी कानामी हमसे छोटी थी ? - जो आपसे शक्तिमान है उसे लड़ो मत जो कमजोर है उसी से लड़ो इसको कायरता कहा जाता है - राहुल गांधी सावरकर की विचारधारा जो आपके सामने तगड़ा है मजबूत है उसके सामने सिर झुका दो मत्था टेक दो हिंदुस्तान हिंदुस्तान के मंत्री कह रहे हैं हिंदुस्तान का मंत्री चाइना से कह रहा है कि आपकी का नाम ही हमसे बड़ी है हम आपके सामने खड़े नहीं हो सकते इसको क्या नेशनलिज्म कहते हैं इसको देशभक्ति कहते हैं क्या यह कौन सी देशभक्ति है ? - राहुल गांधी महात्मा गांधी कहते थे सत्य की राह की बात करते थे हम हैं सत्याग्रही वह सत्ता ग्राही r.s.s. बीजेपी सत्ता के लिए कुछ भी कर लेंगे किसी से भी मिल जाएंगे किसी के सामने झुक जाएंगे सत्ता के लिए यह इनकी सच्चाई है - राहुल गांधी संसद में मैंने अदानी पर सवाल किया 609 से टॉप टेन में कैसे आ गए ? मैंने एक सवाल पूछा कि नरेंद्र मोदी जी आपका अडानी से रिश्ता क्या है ?
  • राहुल गांधी राष्ट्रीय अधिवेशन में बोलते हुए -  क्या-क्या कटाक्ष किए ?  जानिए
    भारत देश में वर्षों तक राज करने वाले नेहरू परिवार के वारिस राहुल गांधी के पास अपना खुद का मकान नहीं कांग्रेस के रायपुर में चल रहा है राष्ट्रीय अधिवेशन के अंतिम दिन राहुल गांधी ने किया खुलासा राहुल गांधी ने कहा कि मैंने अपने आप को बदल लिया है हिंदुस्तान एक भावना है एक सोचने का तरीका है इज्जत है आदर है मोहब्बत है यह जो झंडा है तिरंगा इस भावना का चिन्ह है और जनता ने इस भावना को पूरे देश में फैलाया है यह काम कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने किया है नेताओं ने किया है और हिंदुस्तान की जनता ने किया है - राहुल गांधी कुछ दिन पहले इंटरव्यू में एक मंत्री ने कहा कि चाइना की इकोनॉमी हिंदुस्तान की इकानामी से बड़ी है तो हम उनसे कैसे लड़ सकते हैं ? जब अंग्रेज हम पर राज करते थे तो क्या उनकी कानामी हमसे छोटी थी ? - जो आपसे शक्तिमान है उसे लड़ो मत जो कमजोर है उसी से लड़ो इसको कायरता कहा जाता है - राहुल गांधी सावरकर की विचारधारा जो आपके सामने तगड़ा है मजबूत है उसके सामने सिर झुका दो मत्था टेक दो हिंदुस्तान हिंदुस्तान के मंत्री कह रहे हैं हिंदुस्तान का मंत्री चाइना से कह रहा है कि आपकी का नाम ही हमसे बड़ी है हम आपके सामने खड़े नहीं हो सकते इसको क्या नेशनलिज्म कहते हैं इसको देशभक्ति कहते हैं क्या यह कौन सी देशभक्ति है ? - राहुल गांधी महात्मा गांधी कहते थे सत्य की राह की बात करते थे हम हैं सत्याग्रही वह सत्ता ग्राही r.s.s. बीजेपी सत्ता के लिए कुछ भी कर लेंगे किसी से भी मिल जाएंगे किसी के सामने झुक जाएंगे सत्ता के लिए यह इनकी सच्चाई है - राहुल गांधी संसद में मैंने अदानी पर सवाल किया 609 से टॉप टेन में कैसे आ गए ? मैंने एक सवाल पूछा कि नरेंद्र मोदी जी आपका अडानी से रिश्ता क्या है ?
  • राहुल गांधी राष्ट्रीय अधिवेशन में बोलते हुए -  क्या-क्या कटाक्ष किए ?  जानिए
    भारत देश में वर्षों तक राज करने वाले नेहरू परिवार के वारिस राहुल गांधी के पास अपना खुद का मकान नहीं कांग्रेस के रायपुर में चल रहा है राष्ट्रीय अधिवेशन के अंतिम दिन राहुल गांधी ने किया खुलासा राहुल गांधी ने कहा कि मैंने अपने आप को बदल लिया है हिंदुस्तान एक भावना है एक सोचने का तरीका है इज्जत है आदर है मोहब्बत है यह जो झंडा है तिरंगा इस भावना का चिन्ह है और जनता ने इस भावना को पूरे देश में फैलाया है यह काम कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने किया है नेताओं ने किया है और हिंदुस्तान की जनता ने किया है - राहुल गांधी कुछ दिन पहले इंटरव्यू में एक मंत्री ने कहा कि चाइना की इकोनॉमी हिंदुस्तान की इकानामी से बड़ी है तो हम उनसे कैसे लड़ सकते हैं ? जब अंग्रेज हम पर राज करते थे तो क्या उनकी कानामी हमसे छोटी थी ? - जो आपसे शक्तिमान है उसे लड़ो मत जो कमजोर है उसी से लड़ो इसको कायरता कहा जाता है - राहुल गांधी सावरकर की विचारधारा जो आपके सामने तगड़ा है मजबूत है उसके सामने सिर झुका दो मत्था टेक दो हिंदुस्तान हिंदुस्तान के मंत्री कह रहे हैं हिंदुस्तान का मंत्री चाइना से कह रहा है कि आपकी का नाम ही हमसे बड़ी है हम आपके सामने खड़े नहीं हो सकते इसको क्या नेशनलिज्म कहते हैं इसको देशभक्ति कहते हैं क्या यह कौन सी देशभक्ति है ? - राहुल गांधी महात्मा गांधी कहते थे सत्य की राह की बात करते थे हम हैं सत्याग्रही वह सत्ता ग्राही r.s.s. बीजेपी सत्ता के लिए कुछ भी कर लेंगे किसी से भी मिल जाएंगे किसी के सामने झुक जाएंगे सत्ता के लिए यह इनकी सच्चाई है - राहुल गांधी संसद में मैंने अदानी पर सवाल किया 609 से टॉप टेन में कैसे आ गए ? मैंने एक सवाल पूछा कि नरेंद्र मोदी जी आपका अडानी से रिश्ता क्या है ?
  • महाराष्ट्र के राज्यपाल बने रायपुर के रमेश बैस, मराठी में ली शपथ

    बॉम्बे उच्च न्यायालय के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति एसवी गंगापुरवाला ने उन्हें पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई -

     रमेश बैस ने महाराष्ट्र जैसे बड़े प्रदेश के राज्यपाल की जिम्मेदारी पूरी तरह से संभाल ली, मराठी भाषा में शपथ ली।

    रायपुर से सात बार सांसद रहे रमेश बैस महाराष्ट्र के 22वें राज्यपाल बन गए हैं। शनिवार को उन्होंने मुंबई के राजभवन में आयोजित समारोह में पद और गोपनीयता की शपथ ली। बॉम्बे उच्च न्यायालय के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति एसवी गंगापुरवाला ने उन्हें पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई है। उन्होंने मराठी भाषा में शपथ ली। 

    इस शपथ ग्रहण समारोह के साथ ही रमेश बैस ने महाराष्ट्र जैसे बड़े प्रदेश के राज्यपाल की जिम्मेदारी पूरी तरह से संभाल ली है। शपथ ग्रहण समारोह में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने राज्यपाल का स्वागत करते हुए उन्हें अभिभावक बताया। इससे पहले रमेश बैस को झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन सहित वहां के राजनेताओं ने रांची से विदा किया था।

    झारखंड पुलिस ने रांची हवाई अड्‌डे पर बैस को गार्ड ऑफ ऑनर दिया था। रांची से विदा होकर रमेश बैस चार्टर्ड विमान से रायपुर पहुंचे। रायपुर से वे मुंबई पहुंचे हैं। यहां गार्ड ऑफ ऑनर से उनका स्वागत हुआ। शनिवार दोपहर उन्होंने राजभवन में शपथ ग्रहण के साथ अपनी जिम्मेदारी संभाल ली। रमेश बैस को पिछले दिनों महाराष्ट्र का राज्यपाल नियुक्त किया गया था। इससे पहले वे झारखंड के राज्यपाल थे। बैस के शपथ ग्रहण समारोह में रायपुर से भी बहुत से भाजपा नेता मुंबई पहुंचे हैं।

    पदभार संभालते हुए राज्यपाल रमेश बैस ने काले रंग का सूट पहना।
    पदभार संभालते हुए राज्यपाल रमेश बैस ने काले रंग का सूट पहना।

     

    केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार की दूसरी पारी शुरू होने के साथ ही रमेश बैस के राजनीति की दूसरी पारी शुरू हुई। 2019 में रमेश बैस को त्रिपुरा का राज्यपाल बनाया गया है। यह पूर्वोत्तर का राज्य जहां वे दो साल रहे। जुलाई 2021 में बैस को झारखंड का राज्यपाल बनाया गया। वहां झामुमो गठबंधन की सरकार में बैस की भूमिका ने कई टकराव और विवाद भी खड़े किए। अब उनका तीसरा ठिकाना देश की पश्चिमी तटरेखा का प्रदेश महाराष्ट्र है, जहां भाजपा गठबंधन सरकार में है। 

  • *बस्तर संभाग के सभी राजनैतिक दलों के पदाधिकारियों की सुरक्षा व्यवस्था सुदृढ़ करने हेतु आयोजित की गई बैठक*
    *बस्तर संभाग के सभी राजनैतिक दलों के पदाधिकारियों की सुरक्षा व्यवस्था सुदृढ़ करने हेतु आयोजित की गई बैठक* *नक्सल प्रभावित क्षेत्र में भ्रमण, कार्यक्रम के दौरान पालन किये जाने वाले सुरक्षा मापदण्ड के संदर्भ में कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक द्वारा दी गई आवश्यक जानकारी* रायपुर 14 फरवरी 2023 । बस्तर संभाग के सभी राजनैतिक दलों को सुरक्षा मापदण्ड के संदर्भ में अवगत कराने हेतु समस्त जिला मुख्यालय में जिला दण्डाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक द्वारा सभी राजनैतिक दलों की एक बैठक आयोजित की गई। उक्त बैठक में कानून/सुरक्षा व्यवस्था, जनप्रतिनिधियों एवं सामाजिक पदाधिकारियों के भ्रमण के दौरान पालन किये जाने वाले सुरक्षा मापदण्ड के संबंध में आवश्यक चर्चा की गई। संवेदनशील क्षेत्रों में भ्रमण कार्यक्रम के दौरान आवागमन की सूचना समय पूर्व दिये जाने के संबंध में बताया गया, जिससे संवेदनशील क्षेत्रों के सुरक्षा आंकलन की कार्यवाही की जाकर आवश्यक बंदोबस्त सुनिश्चित की जा सके। पुलिस महानिरीक्षक, बस्तर रेंज सुन्दरराज पी. द्वारा यह बताया गया कि विगत वर्षों में जिस तरीके से माओवादियों के प्रभावित इलाकों में सुरक्षा बलों द्वारा योजनाबद्ध तरीके से कार्यवाही करते हुये, माओवादियों के गतिविधियों पर अंकुश लगाये जाने के कारणवश, बौखलाहट में माओवादियों द्वारा निहत्थे व्यक्तियों को निशाना बनाया जा रहा है। माओवादियों की इस चुनौती को सामना करते हुये और बेहतर रणनीति के तहत् पुलिस एवं सुरक्षा बलों द्वारा क्षेत्र में कार्य की जायेगी ताकि माओवादियों की हिंसात्मक गतिविधियों को समाप्त करते हुये क्षेत्र में शांति व सुरक्षा व्यवस्था स्थापित किया जा सके। CG 24 News
  • संसद में वित्त मंत्री ने बताया किस कारण बढ़ रही है महंगाई

    वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने लोकसभा में बजट की आम चर्चा का जवाब दिया. इस दौरान उन्होंने महंगाई, रोजगार से जुड़े सवालों का जवाब दिया. वहीं, राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत पर चुटकी ली |

     

    केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण लोकसभा में आज बजट की चर्चा का जवाब दिया. वित्त मंत्री ने बजट की विशेषताओं को एक बार फिर बताया. इस दौरान उन्होंने विपक्षी पार्टी कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि भ्रष्टाचार पर कांग्रेस को बोलने का बिल्कुल भी हक नहीं है. उन्होंने हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा पेट्रोल-डिजल पर वैट लगाने के फैसले पर निशाना साधा. वहीं, राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत द्वारा पिछले साल के बजट भाषण के अंश पढ़ने पर चुटकी लेते हुए कहा कि राजस्थान में गड़बड़ है. भगवान की कृपा रहे कि किसी की हालत न हो कि पिछले साल का बजट पढ़ें.

    कैपिटल एक्सीपेंडिचर से पैदा होंगे रोजगार

    वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट की चर्चा के दौरान कहा कि कैपिटल एक्सपेंडिजर से रोजगार सृजन होगा. इंफ्रास्ट्रक्चर से लेकर मेडिकल तक कई क्षेत्रों में रोजगार के नए अवसर बनेंगे. पीएम कौशल विकास योजना, ड्रोन्स के जरिए रोजगार आएंगे. युवाओं को अंतरराष्ट्रीय जॉब्स के लिए तैयार करने के लिए स्किल सेंटर बनाए जाने के लिए स्किल सेंटर बनाए जाएंगे. वित्त मंत्री ने इनकम टैक्स पर कहा है कि नए कर व्यवस्था से लोगों को जोड़ने के लिए सात लाख तक की आय को टैक्स फ्री कर दिया गया है. राज्यों को पर्याप्त संसाधन आवंटित किए गए हैं. 50 साल के लिए बिना ब्याज के 1.3 लाख करोड़ रुपए का लोन दिया गया है |

    वित्त मंत्री ने आगे कहा, 'चीन में कोविड की वापसी के कारण अंतरराष्ट्रीय बाजारों में कीमतें बढ़ गई थी. प्रतिकूल मौसम के कारण न सिर्फ भारत में खाद्य पदार्थों की महंगाई बढ़ी बल्कि कई देशों में भी महंगाई बढ़ी है|

     

  • *बजट - बजट - बजट - 2023 के बजट का विश्लेषण
    *बजट - बजट - बजट - 2023 का बजट* लोकसभा 2023 का बजट पेश हुआ , यह बजट जिस तरह की उम्मीद थी उसी तरह का आया | इस बजट में भी अमीरों की और गरीबों की चिंता की गई, मध्यमवर्ग को फिर झुनझुना पकड़ा दिया गया | सत्ता पक्ष एवं उनके नेताओं, मंत्रियों और जनप्रतिनिधियों द्वारा ढिंढोरा पीटा जा रहा है कि 2023 का बजट मध्यम वर्ग को ध्यान में रखकर बनाया गया है, इनकम टैक्स में छूट की सीमा 2 लाख और बढ़ा दी गई और इसे ही मध्यम वर्ग के लिए राहत की बात बताई जा रही है | गौर करने वाली बात यह है कि जब मध्यम वर्गीय परिवार की आय 7 लाख होगी तभी तो उसे छूट का लाभ मिलेगा, अधिकतर लोगों की आय सालाना 5 लाख से भी कम है, सरकारी आंकड़ा देखा जाए तो देश में 80 करोड़ लोग गरीबी रेखा के नीचे के हैं जिन्हें केंद्र और प्रदेश सरकारों की योजनाओं का भरपूर लाभ मिलता है | उसी प्रकार अमीरों की गिनती देखा जाए तो मुश्किल से 5% होगी, केंद्रीय बजट में उनकी चिंता भी हर बार की जाती है और इस बार भी की गई है, उनके टैक्स स्लैब में कमी से उनकी कमाई के हिसाब से टैक्स की छूट के कारण करोड़ों अरबों रुपए का फायदा मिलेगा | *2023 के केंद्रीय बजट में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 80 करोड़ गरीबों के लिए 1 वर्ष तक राशन फ्री की घोषणा की है |* बजट में 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन की व्यवस्था से यह बात तो प्रमाणित हो गई कि केंद्र सरकार स्वयं मानती है कि देश में गरीबी बढ़ती जा रही है, गरीबी के आंकड़ों में कोई कमी नहीं आ रही, तो फिर किस तरह देश की प्रगति की बातें हो रही है ?, देश के विकास की बातें हो रही है ?, इंफ्रास्ट्रक्चर की बातें हो रही है ? इनकम टैक्स में 2 लाख रूपए की छूट से आम मध्यमवर्गीय परिवारों को कोई राहत नहीं मिलने वाली | घरों में नियमित उपयोग वाली वस्तुएं दाल, चावल, आटा, तेल और मसालों की कीमतों में कोई कमी नहीं की गई है, बढ़ती महंगाई को कम करने के लिए बजट में कोई प्रावधान नहीं किया गया है, घरेलू महिलाओं को अपने घर का बजट सुधारने के लिए कोई व्यवस्था इस बजट में नहीं की गई है | डिजिटल इंडिया, डिजिटल ट्रांजैक्शन, छोटी से छोटी एवं बड़ी से बड़ी खरीदारी के लिए ऑनलाइन ट्रांजैक्शन की बात करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को बैंक फ्रॉड एवं लॉकर से चोरी होने पर उपभोक्ताओं के लिए कोई राहत की व्यवस्था भी नहीं की है | एक तरफ तो प्रधानमंत्री का कहना है कि पैसों को बैंक में रखा जाए वहीं दूसरी तरफ बैंकों द्वारा किए जाने वाले फ्रॉड या ऑनलाइन ठगी के माध्यम से होने वाले नुकसान की भरपाई की चिंता बजट में नहीं की गई है, आखिर देश की जनता करे तो क्या करें ? घर में पैसा रखती है तो इनकम टैक्स वाले छापा मारकर ले जाएंगे और अगर बैंकों में लोग पैसा रखते हैं तो ऑनलाइन ठगी करने वाले किसी ना किसी बहाने बैंकों से रुपया पार कर देते हैं, हर हाल में मुसीबत आम जनता के लिए ही है | पेट्रोल, डीजल, घरेलू गैस सिलेंडर, खाद्य पदार्थों, घरेलू उपयोग की वस्तुओं की कीमतों में कोई कमी इस बजट में नहीं की गई है | बैंकों के फ्रॉड की स्थिति में डूबने वाले पैसों के लिए भी सरकार ने कोई चिंता नहीं की है | पत्रकार सुखबीर सिंघोत्रा का विश्लेषण Mo. 9301094242
  • central बजट- 2023

    बजट-

    80 करोड़ लोगों को मुक्त अनाज मिलेगा, मुक्त अनाज पर 2 लाख करोड़ का खर्च.. 

    आदिवासियो के लिए 15 हजार करोड़ का पैकेज, आदिवासियों के लिए विशेष स्कूल खोले जाएंगे.. 

    जेल में बंद गरीबो को सरकार छुड़वायेगी, जमानत का पैसा सरकार देगी... 

    2.40लाख करोड़ रेलवे पर खर्च होगा... 

    पीएम प्रमाण योजना शुरू की जाएगी ऑर्गेनिक खेती के लिए होगी पीएम प्रमाण योजना... 

    50 नए हवाई अड्डे खोले जायेंगे... 

    पीएम आवास योजना पर 79 हजार करोड़ खर्च होगा... 

    कोरोना से प्रभावित कारोबारियों को दी जाएगी राहत...

    पीएम कौशल विकास योजना के तहत युवाओं को कौशल विकास की ट्रेनिंग दी जाएगी, स्किल इंडिया इंटरनेशनल सेंटर खोले जाएंगे 47 लाख युवाओं को ट्रेनिंग मिलेगी... 

    30 लाख छात्रों को स्कॉलरशिप मिलेगी... 

    बॉर्डर से सटे गाँव को टूरिज्म बनाएंगे... 

    कोरोना से प्रभावित कारोबारियों को राहत मिलेगी... 
    MSME सेक्टर को स्पेशल पैकेज मिलेगा..

  • रेलवे अधिकारी ने ट्रेन से कटकर जान दे दी

    मुंबई में एक रेलवे अधिकारी ने ट्रेन से कटकर जान दे दी. ये अधिकारी वेस्टर्न रेलवे में चीफ लोको इंस्पेक्टर थे और इनका नाम आरएस गौर बताया गया है. घटना 28 जनवरी को दोपहर 12 से 1 बजे के बीच की बताई जा रही है. इस घटना का एक सीसीटीवी फुटेज भी सामने आया है.

    न्यूज वेबसाइट इंडिया टुडे की खबर के मुताबिक, इस फुटेज में दिखाया गया है कि पहले ये अधिकारी प्लेटफॉर्म पर खड़े होकर ट्रेन आने का इंतजार करते हैं और जैसे ही ट्रेन आने वाली होती है, वैसे ही वो कूद जाते हैं और पटरियों पर लेट जाते हैं. उनके लेटते ही एक तेज रफ्तार ट्रेन आती है और उनके ऊपर से होकर गुजर जाती है. तो वहीं, प्लेटफ़ॉर्म पर खड़े दूसरे यात्री इस हादसे को देख भौंचक्के रह जाते हैं.

    अधिकारी ने छोड़ा सुसाइड नोट

    वहीं, न्यूज वेबसाइट टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, अधिकारी ने एक सुसाइड नोट भी छोड़ा है. इस नोट में उन्होंने अपनी मौत का जिम्मेदारी किसी को नहीं बताया है. हालांकि, उन्होंने सुसाइड में उन्होंने अपनी पत्नी और भाई को कुछ निर्देश जरूर दिए हैं. इसके अलावा बताया गया है कि लोको इंस्पेक्टर जीएस गौर अनिद्रा की बीमारी से भी ग्रसित थे.

     

    पुलिस ने दर्ज किया मामला

    इस मामले के संबंध में जीआरपी अधिकार क्षेत्र के तहत विले पार्ले पुलिस स्टेशन में केस दर्ज किया गया है. पश्चिम रेलवे के पीआरओ के मुताबिक, इंस्पेक्टर ने आत्महत्या काम के तनाव की वजह से नहीं की है, उनके सुसाइड के पीछे कुछ और ही वजह है. फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है. उनके परिजनों को इस हादसे की जानकारी दे दी गई है. बॉडी को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया गया है. 

  • गुरुवाणी का प्रकाश नई पीढ़ी तक ले जाना ही कीर्तन समागम का मुख्य उद्देश्य : अलौकिक कीर्तन समागम
    राजधानी रायपुर के गुरुनानक नगर (श्यामनगर ) गुरूद्वारे में अलौकिक कीर्तन समागम सोसायटी और गुरुद्वारा श्री गुरुसिंघ सभा द्वारा इस वर्ष भी 23 से 26 जनवरी तक अलौकिक कीर्तन समागम का आयोजन किया जा रहा है। तीन दिवसीय अलौकिक कीर्तन समागम में देशभर के रागी जत्थे शामिल होकर संगत को निहाल कर रहे है | अलौकिक कीर्तन समागम का संचालन कर रहे ज्ञानी हरइक़बाल सिंह बाली ने कहा कि इस समागम में ओड़िसा महाराष्ट्र, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ से सिक्ख समाज के अलावा अन्य समाज के लोग भी पहुंच रहे हैं और रागी जत्थे कीर्तन और कथा से सबको निहाल कर रहे हैं | इस बार जालन्धर से मेहबराणा सिंह, चंडीगढ़ से लवनीत सिंह, पटियाला से जसकरण सिंह, दरबार साहिब अमृतसर से करनैल सिंह, सतनाम सिंह जैसे जाने माने कीर्तनकार, रागी जत्थे कथाकार शामिल हुए है | आलौकिक कीर्तन समागम में विशेष रूप से ज्ञानी पिंदर पाल सिंघ आध्यात्मिक ज्ञान से साधसंगत को निहाल कर रहे हैं। ज्ञानी हर इकबाल सिंघ बाली ने कहा कि गुरुवाणी का प्रकाश नई पीढ़ी तक ले जाना ही कीर्तन समागम का मुख्य उद्देश्य है। गुरुग्रंथ साहिब में लिखी विभिन्न संतों की वाणी सुनने सिख समाज के लोग उमड़ रहे हैं। गुरुनानक नगर में सजाए गए विशेष दीवान में छत्तीसगढ़ का सबसे बड़ा कीर्तन समागम चल रहा है। कीर्तन समागम के दूसरे दिन भी जत्थों को सुनने काफी श्रद्धालु पहुंचे। गुरुग्रंथ साहिब में सभी वर्गो को जोड़ने का ज्ञान है | अरदास अर्थात प्रार्थना में सरबत के भले अर्थात सभी के अच्छे के लिए हाथ जोड़ कर वाहेगुरु के आगे सीस झुकाया जाता है| CG 24 News-Singhotra